गृह मंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा का बयान, कोरोना रिकवरी रेट पहुंची 85 प्रतिशत

नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि आज कोरोना की रिपोर्ट में 12 हजार नए केस आए है वहीं 13 हजार ठीक हुए हैं, प्रदेश दूसरे राज्यों की तुलना में सुधार के मामलों में सात नंबर पर है वही रिकवरी रेट 85 प्रतिशत हो गई है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में कोरोना (Corona) से रिकवर होने की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है वही अब प्रदेश के जेल एवं गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा (Minister Dr. Narottam Mishra) ने कहा है कि आज कोरोना की रिपोर्ट में 12 हजार नए केस आए है वहीं 13 हजार ठीक हुए हैं, प्रदेश दूसरे राज्यों की तुलना में सुधार के मामलों में सात नंबर पर है वही रिकवरी रेट 85 प्रतिशत हो गई है।

यह भी पढ़ें…सीएम शिवराज सिंह चौहान बोले- रणनीति बना रोके कोरोना, गाँव स्तर पर करें टीम तैयार

पुलिस में 160 इंस्पेक्टर प्रभारी डीएसपी बनेंगे
मंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि जवान सड़क पर है इस समय जवान की हौसला अफजाई में सरकार की तरफ से कोई कमी नहीं आ रही है। आज हम ने तय किया है कांस्टेबल को हेड कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल को एएसआई और एएसआई को एसआई, एसआई को आईटी बनाएं जाएंगे जो टीआई (TI) है उन्हें इस हफ्ते SDOP एसडीओपी बनवाएंगे और लगभग 160 पुलिसकर्मी के प्रमोशन होंगे।

यह भी पढ़ें…प्रदेश के इस जिले में 10 मई तक बढ़ा कोरोना कर्फ्यू, जरूरी सेवाएं रहेगी चालू

एंबुलेंस में अनिमितिया पाए जाने पर कार्यवाही होगी
मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) की अध्यक्षता में कोरोना को लेकर समीक्षा बैठक की गई, वही बैठक में कुछ अहम फैसले लिए गए, उन्होंने बताया कि एंबुलेंस (Ambulances) की शिकायत आने पर मुख्यमंत्री ने सख्त निर्देश दिए हैं कि जो एंबुलेंस की लूटपाट चल रही है वह मध्यप्रदेश में किसी भी प्रकार से नहीं होगी, उनके रेट फिक्स किए जाएंगे, एंबुलेंस में अनिमितिया पाए जाने पर कार्यवाही होगी। ऑक्सीजन, वैक्सीनेशन, कोरोना से संबंधित वाट्सऐप, फेसबुक, सोशल मीडिया पर भ्रम फैलाने वालों पर भी कार्यवाही होगी। राज्य सरकार ने फैसला किया है पत्रकारों को वैक्सीनेशन में प्राथमिकता दी जाएगी, स्थान जनसंपर्क कार्यालय या सरकार द्वारा तय किया जाएगा। उन्होंने आगे बताया कि 18+ के लिए कल से वैक्सीनेशन शुरू हो रहा है उसमे भीड़ न लगे इस लिए पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन किया जाएगा, मोबाइल पर मैसेज के आने पर वैक्सीनेशन केंद्र पर जाकर वैक्सीनेशन होगा। अस्पतालों से अलग हटकर वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए है सभी जिलों में एक-एक वैक्सीनेशन सेंटर बनाया गया है।