गणतंत्र दिवस के मौके पर वीरता और सेवा मेडल की लिस्ट जारी, MP के 26 जवानों को मिलेगा पुरस्कार

गणतंत्र दिवस के मौके पर 26 जनवरी को मिलने वाले वीरता और सेवा मेडल की लिस्ट को केंद्रीय मंत्रालय द्वारा गुरूवार को जारी कर दिया गया है।

Shashank Baranwal
Published on -
Gallantry Awards 2024

Gallantry Awards 2024:  75वें गणतंत्र दिवस के मौके पर मिलने वाले वीरता पुरस्कार और सेवा मेडल की लिस्ट जारी कर दिया गया है। इस लिस्ट को केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से गुरूवार को जारी किया गया। जिसमें देश के अलग-अलग राज्यों में अग्निशमन सेवा, होमगार्ड, पुलिस और नागरिक और सुरक्षा सेवा में तैनात कुल 1132 जवानों को 26 जनवरी 2024 को वीरता और सेवा पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

एमपी के 26 जवानों को मिलेगा मिलेगा पुरस्कार

26 जनवरी 2024 को गणतंत्र दिवस के मौके पर मध्य प्रदेश पुलिस के कुल 26 अधिकारियों और कर्मचारियों को राष्ट्रपति पुलिस पद के सम्मानित किया जाएगा। इनमें 3 अधिकारियों को वीरता पदक से सम्मानित किया जाएगा। जिनका नाम इंस्पेक्टर अंशुमान सिंह चौहान, हेड कांस्टेबल अतुल कुमार शुक्ला, मनोज कुमार कश्यप के नाम शामिल हैं। वहीं 21 अधिकारी और कर्मचारी और को विशिष्ठ, सरहानीय सेवा के लिए पदक मिलेगा। जिसमें ईओडबल्यू ADG मोहम्मद शाहिद, लोकायुक्त ADG योगेश चौधरी, डिप्टी कमांडेंट भारत भूषण राय और इंस्पेक्टर शरद प्रसाद चौधरी को विशिष्ट सेवा पदक मिलेगा।

सर्वाधिक वीरता पुरस्कार जम्मू कश्मीर के जवानों को

इस लिस्ट में 275 वीरता पुरस्कार शामिल हैं। जिसमें सर्वाधिक 72 पुरस्कार जम्मू कश्मीर के जवानों को, छत्तीसगढ़ के 26 जवानों को, झारखंड के 23 जवानों को, महाराष्ट्र के 18 जवानों को, ओडिशा के 15 जवानों को, दिल्ली के 8 जवानों को और सीआरपीएफ के 65 जवानों के साथ केंद्र शासित प्रदेश के 21 जवानों को वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जाने वाला है।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News