मध्यप्रदेश : सपा हुई साफ, बसपा हुई हाफ, भाजपा के कुनबे में बढ़े तीन सदस्य

छतरपुर जिले की बिजावर विधानसभा सीट से सपा विधायक राजेश कुमार शुक्ला, भिंड से बसपा विधायक संजीव सिंह कुशवाहा और सुसनेर से निर्दलीय विधायक विक्रम सिह राणा ने मंगलवार को बीजेपी की सदस्यता ले ली।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव के गहमागहमी के बीच एक बार फिर इस खबर ने प्रदेश की राजनीति में हलचल बढ़ा दी है दरअसल मंगलवार को प्रदेश के तीन विधायकों ने बीजेपी का दामन थाम लिया,  मंगलवार को बीजेपी कार्यालय में 3 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए । इसमें छतरपुर जिले की बिजावर विधानसभा सीट से सपा विधायक राजेश कुमार शुक्ला, भिंड से बसपा विधायक संजीव सिंह कुशवाहा और सुसनेर से निर्दलीय विधायक विक्रम सिह राणा के नाम शामिल है। बीजेपी प्रदेश कार्यालय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने तीनों को गुलदस्ते देकर और बीजेपी का दुपट्टा पहनाकर सदस्यता दिलवाई।

यह भी पढ़ें….पीएम मोदी का बड़ा ऐलान, आने वाले डेढ़ साल में 10 लाख लोगों को रोजगार देगी सरकार

संजीव कुशवाह

संजीव कुशवाह ने भाजपा छोड़कर बसपा से 2013 का विधानसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन वह जीत नहीं सके थे,  इसके बाद 2018 में उन्होंने 35 हजार से ज्यादा वोट से जीत हासिल की थी, संजीव बसपा के विधायक दल के नेता थे और बीजेपी में भारतीय जनता युवा मोर्चा में प्रदेश पदाधिकारी और जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुके हैं, संजीव ने अपने पिता के साथ 2013 में बसपा ज्वाइंन कर ली थी, जिसके बाद आज मंगलवार को वह दोबारा भाजपा में शामिल हुए हैं।

राजेश कुमार शुक्ला 

राजेश कुमार शुक्ला छतरपुर जिले की बिजावर विधानसभा सीट से सपा विधायक थे, राजेश शुक्ला ने 2018 चुनाव में भाजपा के पुष्पेंद्रनाथ पाठक को हराया था, उनके राज्यसभा के लिए हुए मतदान में भाजपा के समर्थन में मतदान किया था, जिसके बाद उनको पार्टी से निष्कासित कर दिया था,

विक्रम सिंह राणा

वही विक्रम सिंह राणा सुसनेर विधानसभा से निर्दलीय विधायक थे, विक्रम सिंह की भाजपा में शामिल होने की पहले से चर्चा चल रही थी, जिसके बाद आज तीनों विधायकों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है.इन विधायकों के बीजेपी में शामिल होने को आगामी चुनावों से जोडकर देखा जा रहा है।

दरअसल 18 जुलाई राष्ट्रपति चुनाव होना है, इसमें लोकसभा सांसद, राज्यसभा सांसद और राज्यों की विधानसभा के विधायक भाग लेते हैं। माना जा रहा है कि इस चुनाव में वोटों के गणित को देखते हुए भाजपा सेफ जोन बनाने में लगी है। वही जुलाई में ही नगरीय निकाय चुनाव होना है, इन विधायकों के शामिल होने से कांग्रेस को कड़ी टक्कर और बीजेपी को बड़ा समर्थन मिलेगा। 230 सदस्यों की मध्यप्रदेश विधानसभा में इस समय बीजेपी के 127 सदस्य हैं।