Burhanpur news: पंचायत से काम करवाना है तो मुर्गा लगेगा, फिर भी काम होने की गारंटी नहीं !

काम करने के बदले सरपंच मांग रहे हैं मुर्गा। परेशान ग्रामीणों ने जनपद पंचायत में लगाई गुहार।

बुरहानपुर, शेख रईस । भारत के संविधान में पंचायती राज व्यवस्था इसलिए की गई है कि ग्राम का विकास हो और गांव की समस्या गांव में ही सुलझा ली जाए, वह भी वहां के स्थानीय प्रशासकों के द्वारा।  लेकिन पंचायती राज में लोगों का शोषण किया जाना नई बात नहीं है। काम करने के एवज में रिश्वतखोरी का पुराना किस्सा एक बार फिर मध्यप्रदेश के सीमावर्ती जिले बुरहानपुर में दोहराया गया।

यहां भी देखें- MP News : किसानों को जल्द मिलेगी बड़ी राहत, खाते में जमा होगी सहायता राशि, मंत्री का बड़ा बयान

लेकिन यहां मामला कुछ अलग ही है। मामला बुरहानपुर जिले के जनपद पंचायत खकनार की ग्राम पंचायत जामनिया के ध्यानसिंह फलिया का है। ग्रामीणों ने सरपंच पर कार्य न करने और काम करने के एवज में मुर्गा मांगने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने सरपंच पर आरोप लगाते हुए कहा कि, किसी भी काम का सरपंच को बोलते है तो हमसे पहले मुर्गा मांगा जाता है, मुर्गा खिलाने के बाद भी ग्रामीणों का काम कर दिया जाए इसकी कोई गारंटी नहीं है।

यहां भी देखें- D news: कांग्रेस के पूर्व विधायक राजेंद्र भारती को पुलिस ने किया गिरफ़्तार, यह है पूरा मामला!

ग्रामीणों के अनुसार  प्रधानमंत्री आवास के लिए 3 वर्षों से सरपंच सचिव के पास जा रहे है, पर ना संतोषजनक जवाब दिया जा रहा है और ना ही काम किया जा रहा है। हमारी क़िस्त पूरी डल रही है पर प्रधानमंत्री आवास  आधा अधूरा बना हुआ है। ग्रामीणों को गुजारिश है कि जनपद पंचायत से सीईओ खुद सरपंच की गतिविधियों को देखते हुए हमारे कामों को आगे बढ़ाएं।

यहां भी देखें- Jabalpur News: सांसद राकेश सिंह और कैलाश विजयवर्गीय की गुप्त बैठक से सियासी सुगबुगाहट तेज

गांव वालों ने यहां तक भी कहा है की इस तरह के शोषण खोरी के खिलाफ हम लगातार शिकायत कर रहे हैं, लेकिन फिलहाल हमारी समस्याओं का निदान नहीं किया गया है।