Online Scam: अनोखे तरीके से हुई ठगी, अकाउंट से पहले ट्रांसफर किए 5 रुपये, फिर लगा हजारों का चूना

Burhanpur News: लगातार शासन प्रशासन के लाभ प्रचार-प्रसार के बावजूद भी ऑनलाइन ठगी का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। प्रशासन द्वारा बार-बार लोगों से अपील की जाती है कि ऑनलाइन ठगी से बच के फर्जी साइटों पर लालच में आ कर लोग ठगे जा रहे हैं। अपने निजी खाते या बैंक संबंधित जानकारी किसी के साथ शेयर ना करें और ना ही ओटीपी शेयर करें। बावजूद इसके ऑनलाइन ठगी दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है।

ये है मामला

ठगी का अनोखा मामला ऐसा जबलपुर की छात्रा के साथ गठित हुआ है। जहां फोटो फ्रेम के आर्डर के नाम पर छात्रा के साथ ठगी की गई है। दरअसल, उसने ने शिरो रॉकेट कंपनी में 700 रुपये का फोटो फ्रेम आर्डर किया था। जिसके बाद छात्रा को किसी अनजान व्यक्ति का फोन आया। उसने छात्रा से कहा कि आपका ऑर्डर कंफर्म हो गया है। आपके अकाउंट से ₹5 भेजिए। छात्रा ने तुरंत अपने अकाउंट से ₹ 5 भेज दिए और देखते ही देखते कुछ ही देर में छात्रा के अकाउंट से 29000 रुपये गायब हो गए।

Online Scam: अनोखे तरीके से हुई ठगी, अकाउंट से पहले ट्रांसफर किए 5 रुपये, फिर लगा हजारों का चूना
छात्रा के परिजनों ने साइबर सेल ऑफिस में शिकायत दर्ज करवाई।

साइबर सेल ऑफिस में शिकायत दर्ज

इस घटना के बाद छात्रा ने अपने इस परिजनों को इस बात की जानकारी दी। जिसके बाद अब्बास भाई बड़ौदा वाला अली आमीन और मुर्तुजा सुल्तानी के साथ साइबर सेल एसपी ऑफिस में शिकायत की है। पीड़ित परिवार में सब से अपील की है कि ऑनलाइन ठगी से खुद भी बचे दूसरों को भी बचाएं।
बुरहानपुर से शेख रईस की रिपोर्ट


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News