एसडीएम की बड़ी कार्यवाही, एमआरपी से ज्यादा राशि लेने पर 4 दुकानों को किया सील

बुरहानपुर (Burhanpur) में मुख्य मंडी बाजार में एसडीएम (SDM) के.आर बड़ोले के नेतृत्व में एमआरपी (MRP) से ज्यादा राशि वसूलने वाले दुकान पर समान विक्रय करने वाले दुकानदारों के खिलाफ बड़ी कार्यवाही को अंजाम दिया गया।

बुरहानपुर, शेख रईस। बढ़ते कोरोना (Corona) और लॉकडाउन (Lockdown) के मद्देनजर व्यापारी और दुकानदार सामानों मन ग्राहकों से मनमानी वसूली कर रहे है। जिसके कारण जनता काफी परेशान है, बुरहानपुर (Burhanpur) में भी कुछ ऐसा ही हो रहा था जिसके बाद मुख्य मंडी बाजार में एसडीएम (SDM) के.आर बड़ोले के नेतृत्व में एमआरपी (MRP) से ज्यादा राशि वसूलने वाले दुकान पर समान विक्रय करने वाले दुकानदारों के खिलाफ बड़ी कार्यवाही को अंजाम दिया गया।

यह भी पढ़ें…व्हाट्सएप पर भ्रामक जानकारी फैलाना पड़ा भारी, ग्रुप एडमिन और मेंबर के खिलाफ दर्ज हुआ मामला

आपको बता दे नायब तहसीलदार मंजू डाबर और कनिष्ठ खाद्य आपूर्ति अधिकारी भूपेंद्र चोपड़ा ग्राहक बरकत ट्रेडिंग कंपनी किराना दुकान पर पहुंचे, यहां पहुंच कर उन्होंने 5 लीटर कुकिंग ऑयल खरीदा तो पाया कि दूकानदार एमआरपी से ज्यादा रेट दिए जा रहे थे, जिसके बाद नायब तहसीलदार ने इसकी सूचना एसडीएम काशीनाथ बडोले को दी। मौके पर एसडीएम तहसीलदार थाना प्रभारी पहुंचे तो मामला गंभीर पाते हुए दुकान संचालक के खिलाफ कार्यवाही की और दुकान को बाहर से और अंदर से भी सील किया गया। इसके अलावा 3 दुकानदार अनीश , गोपी और अमित यह तीनों भी होम डिलीवरी के पास बनाकर दुकान से डिलीवरी दे रहे थे जिसके बाद यह तीनों की दुकानों को भी सील कर दिया गया। कुल मिलाकर जिला प्रशासन ने 4 दुकानें सील कर दी है जो कि अब लॉकडाउन के बाद एसडीएम की अनुमति से ही खुल पाएगी।

ग्राहक बनकर पहुंचे नायब तहसीलदार मंजू डाबर ने बताया कि जब उन्होंने यहां से सामान खरीदा तो उन्हें एमआरपी से ज्यादा रेट दिया गया। इस पूरे मामले में अनुविभागीय अधिकारी काशीनाथ बडोले का कहना है कि लंबे समय से शिकायत आ रही थी कि लॉकडाउन के चलते कुछ दुकानदार आम जनता से ज्यादा रेट लेकर सामान बेच रहे हैं जिसके तहत हमने नायब तहसीलदार को ग्राहक बनाकर भेजा और मामला सही पाए जाने पर दुकान को सील किया गया। इसके अलावा तीन अन्य और दुकानों को भी सील किया गया है कार्यवाही के बाद दुकानदार कई देर तक के सफाई देते नजर आया, लेकिन प्रशासन ने नियम विरोध संचालन होने के कारण दुकान को सील किया है।