Chhindwara: सड़क की मांग को लेकर क्षेत्रीय विधायक इंटक ने किया अनशन, एसडीएम ने तुड़वाया

शाम 5 बजे पेंच क्षेत्र के महाप्रबंधक टीएन सूर्यवंशी एवं एसडीएम मनोज कुमार प्रजापति ने विधायक का अनशन तुड़वाया।

छिंदवाड़ा, विनय जोशी। छिंदवाड़ा (Chhindwara) के परासिया से लेकर नेहरिया तक मुख्य मार्ग के खस्ता हाल को लेकर कांग्रेस (Congress) और भाजपा (BJP) में राजनीति का खेल शुरू हो गया। आज क्षेत्रीय विधायक इंटक यूनियन और कांग्रेस पार्टी एक दिवसीय धरना और भूख हड़ताल की। वहीं भाजपा के पूर्व विधायक ने प्रेसवार्ता कर इस आंदोलन को ढोंग बताते हुए जनता को गुमराह करने की बात कही।

यह भी पढ़ें… MP : सभी धार्मिक स्थलों पर अधिकतम 50 व्यक्ति की पूजा करने की अनुमति, आदेश जारी

परासिया से लेकर नेहरिया तक 40 किलोमीटर वेकोलि की बेहद खराब सड़क को बनवाने के लिए विधायक एवं इंटक अध्यक्ष सोहन वाल्मीक ने महाप्रबंधक कार्यालय के सामने आज एक दिवसीय अनशन के साथ सभा किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वर्षों से परासिया से नेहरिया तक की सड़क बेहद खराब है। उसको बनाने के लिए उनके द्वारा कई बार महाप्रबंधक और कंपनी के सीएमडी को पत्र लिखा गया। लेकिन उस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। जबकि इस सड़क पर सैकड़ों वेकोलि कर्मचारी एवं करीब 65 गांव के लोग आवागमन करते हैं। इस खराब सड़क पर ट्रक कोयला परिवहन भी करते हैं और इसी क्षेत्र में दर्जन भर से अधिक खदानें स्थित है। लेकिन उसके बावजूद प्रबंधन कोई ध्यान नहीं दे रहा है। जिसके कारण इंटक और कांग्रेस को आंदोलन करना पड़ रहा है। जिससे कि जनता को सुविधा मिले और आवागमन में जो परेशानियां हो रही है- वाहनों को जो नुकसान हो रहा है साथ ही जो दुर्घटनाएं हो रही है उसे रोका जा सके। शाम 5 बजे पेंच क्षेत्र के महाप्रबंधक टीएन सूर्यवंशी एवं एसडीएम मनोज कुमार प्रजापति ने विधायक का अनशन तुड़वाया।

जब विधायक सोहनलाल वाल्मीक से पत्रकारों ने पूछा कि पूर्व विधायक ने कहा कि उनके द्वारा जनता को भ्रमित और ढोंग कर रहे है इस बात से उन्होंने कहा कि वे आदेश की कापी दिखा दे तो मैं उनका स्वागत करता हूँ। नही तो वे जनता और मुझसे मांफी मांगे।

भाजपा के पूर्व विधायक ताराचंद बावरिया ने पत्रकार वार्ता में स्पष्ट किया कि परासिया से नेहरिया तक की सड़क वेकोलि की है। जिसे वेकोलि ही बनाई बनाएगी। राज्य सरकार सड़क नहीं बनाएगी और सड़क निर्माण के लिए भारतीय जनता पार्टी कोई प्रयास नहीं कर रही है। पूर्व विधायक का कहना था कि कांग्रेस की सरकार बनने पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा था वेकोलि एनओसी दे दे तो प्रदेश सरकार प्रधानमंत्री सड़क योजना में सड़क बना देगी। लेकिन वेकोलि के द्वारा एनओसी देने के बावजूद कमलनाथ ने सड़क बनाने के लिए कुछ नहीं किया। पूर्व विधायक का कहना था कि अनशन करके कांग्रेस के विधायक सोहन वाल्मिक जनता को भ्रमित ओर ढोंग कर रहे हैं। जबकि सड़क की मरम्मत के लिए दो करोड़ का ठेका वेकोलि ने कर दिया है।