CM Shivraj 985 गौ-शालाओं का करेंगे लोकार्पण, अत्याधुनिक सेक्स सॉरटेड सीमेन प्रोडक्शन प्रयोगशाला का भी होगा शुभांरभ

Shivraj

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। 3 अप्रैल को भोपाल में आयोजित होने वाले राज्य-स्तरीय मिशन अर्थ कार्यक्रम में शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) मिन्टो हॉल (Minto Hall) में प्रदेश की विभिन्न ग्राम पंचायतों में 260 करोड़ रुपये की लागत से बनी 985 सामुदायिक गौ-शालाओं का लोकार्पण और 50 करोड़ रुपये से बनने जा रही 145 सामुदायिक गौ-शालाओं का शिलान्यास करेंगे।

इसके साथ ही 47 करोड़ 50 लाख रुपए की लागत से स्थापित होने वाली अत्याधुनिक सेक्स सॉरटेड सीमेन प्रोडक्शन प्रयोगशाला (Sex Sorted Semen Production Laboratory) का भी शुभारंभ करेंगे। देश की यह दूसरी बड़ी प्रयोगशाला होगी , जिसे केन्द्रीय वीर्य संस्थान (Central Semen Institute) भदभदा में स्थापित किया गया है। परियोजना की लागत में आने वाले खर्च का 60% केन्द्र और 40% राज्य सरकार वहन करेगी।

इसके अलावा कल CM शिवराज सिंह चौहान भोपाल में राष्ट्रीय गोकुल मिशन के तहत 47 करोड़ 50 लाख रुपए की लागत से स्थापित होने वाली अत्याधुनिक सेक्स सॉरटेड सीमेन प्रोडक्शन प्रयोगशाला (Sex Sorted Semen Production Laboratory) का भी शुभारंभ करेंगे।

ये भी पढे़Khargone News : बिना मास्क के घूम रहे लोगों को खाना पड़ी ओपन जेल की हवा

क्या है सेक्स सॉरटेड सीमेन फेसिलिटी के फायदें-
सेक्स सॉरटेड सीमेन फेसिलिटी यह सुनिश्चित करेगी कि आने वाले समय में गिर, साहीवाल, थारपारकर गाय आदि उच्च अनुवांशिक गुणवत्ता की नस्लों की सीमेन से 90% बछिया ही पैदा हों। बता दें कि देश की ऐसी पहली प्रयोगशाला उत्तराखण्ड के ऋषिकेश में स्थापित की गई है। इसे बछड़ों के पालन-पोषण में होने वाले अनावश्यक व्यय की भी बचत होगी।

ये भी पढे़– फिर वर्दी हुई शर्मसार, थाने में खुले आम रिश्वत लेते हुए आरक्षक कैमरे में हुए कैद, देखें Video

कृषि की आय बढ़ाने के लिये राज्य शासन द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि उत्पादन के साथ पशु-पालन की सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जांएगी। कई बार ऐसा होता है कि पशुओं के रहने की पर्याप्त व्यवस्था न होने की वजह से पशुओं के स्वास्थ्य पर खराब प्रभाव पड़ता है। इसकी वजह से पशु-पालक को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता है। इसी बात को मद्देनजर रखते हुए राज्य शासन ने महात्मा गाँधी नरेगा से बड़े स्तर पर ग्रामीणों की व्यक्तिगत जमीन पर पशु आश्रय बनाने का निर्णय लिया हैं।