Dabra News : ईएनटी शिविर में 500 मरीजों की हुई फ्री जांच, कम सुनाई देने वालों को दी निशुल्क मशीन

Amit Sengar
Published on -

Dabra News : नाक कान और गला हमारे शरीर के लिए एक विशेष खिड़की है जो एक स्वस्थ शरीर को दर्शाता है और इसमें यदि किसी प्रकार की कोई तकलीफ या परेशानी आ जाए तो हमारी दिनचर्या ही बिगड़ जाती है इसी को लेकर आज स्वर्गीय राधेश्याम गुप्ता की पुण्य स्मृति में वैश्य महासम्मेलन महिला नगर इकाई डबरा के तत्वाधान में नाक कान और गला संबंधित रोगों से निजात दिलाने के लिए शहर के राधेश्याम मेमोरियल हॉस्पिटल में मेघा निशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण एवं निशुल्क जांच शिविर के साथ-साथ निशुल्क कान की मशीन वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें लगभग 500 मरीजों को स्वास्थ्य लाभ दिया गया वहीं आधा सैकड़ा से अधिक लोगों की गंभीर बीमारी से संबंधित जांच परीक्षण किया गया इसके अलावा 15 से अधिक मरीजों को निशुल्क कान की मशीन वितरित की गई। कार्यक्रम की शुरुआत पुण्य आत्मा स्वर्गीय डॉक्टर राधेश्याम गुप्ता की तस्वीर के सम्मुख दीप प्रज्वलित कर पुष्प हार पहनाकर शुभारंभ किया है।

आपको बता दें कि वैश्य महासम्मेलन महिला नगर इकाई डबरा के तत्वाधान में सीनियर डॉ सुधांशु गुप्ता की देखरेख में डॉ सृजन गुप्ता (नाक कान गला विशेषज्ञ) एवं डॉ निशा गुप्ता (जनरल सर्जन एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ) द्वारा मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया जिसके बाद गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों की मशीनों द्वारा जांच की गई जिसके बाद जरूरतमंद लोगों को निशुल्क हिंयरिंग एंड मशीन का वितरण किया गया यह शिविर सुबह 10:00 से 1:00 तक संचालित किया गया, इस शिविर में लगभग 500 मरीजों ने अपना स्वास्थ्य परीक्षण कराया साथ ही इस स्वास्थ्य शिविर का लाभ लिया।

इस दौरान डॉ सुधांशु गुप्ता, डॉ निशा गुप्ता जनरल सर्जन एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ, सुनीता गुप्ता पदाधिकारी वैश्य महासम्मेलन महिला नगर इकाई डबरा, संगीता डेंगरे अध्यक्ष भाजपा महिला मोर्चा नगर अध्यक्ष डबरा, चंदा मोदी, लक्ष्मी कुचिया, मधु अग्रवाल, आदि विशेष रूप से उपस्थित रहे।


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News