Dabra News : खुलेआम हो रहा गांजे का अवैध काला कारोबार, जिम्मेदार नहीं कर रहे कोई कार्रवाई

नशे के कारोबारियों पर पुलिस समय-समय पर कार्रवाई करती रही है। और अगर कहीं भी शहर में नशे का कारोबार चल रहा है तो यह मामला उनके संज्ञान में अभी अभी आया है। जल्द ही पुलिस डबरा में नशे के कारोबार पर पूरी तरह रोक लगाएगी।

Amit Sengar
Published on -
ganja

Dabra News : ग्वालियर जिले की डबरा तहसील से एक बड़ी खबर आ रही है। जहाँ पुलिस और आबकारी विभाग की नाक के नीचे गांजे की बिक्री हो रही है। शहर के गली मोहल्लों में गांजा आसानी से मुहैया हो रहा है। लेकिन पुलिस प्रशासन धृतराष्ट्र की भूमिका में मशरूफ है। यही वजह है कि गांजे का अवैध कारोबार करने वालों के हौसले बुलंद हैं।

जिम्मेदार नहीं कर रहे कोई कार्रवाई

नशे के कारोबारियों ने डबरा शहर ही नहीं बल्कि पूरे भारत पर अपना नशे का साम्राज्य फैला रखा है। जिसके कारण भारत में लगभग 80% आबादी नशे के इस मकड़ जाल में उलझ कर अपने आप को बर्बाद कर रहा है। ऐसे में अगर देखा जाए तो लगभग हर घर में कम से कम दो व्यक्ति नशे के आदी हो चुके हैं। फिर चाहे वह अफीम, चरस, गांजे, का नशा हो या फिर शराब का नशा ऐसे में प्रशासन इस नशे के कारोबार को रोकने के लिए कई तरह की मुहिम तो चला रहा है। लेकिन जिले और तहसील कस्बों में इसका असर कम देखने को मिल पा रहा है। क्योंकि जमीनी स्तर पर कुछ जिम्मेदार अधिकारी इसको नजरअंदाज कर देते हैं। जिसके फल स्वरुप नशे का यह कारोबार फल फूल रहा है। जिसके कारण देश में कई परिवार उजड़ चुके हैं जिनमें कई मां अपने बेटों को खो चुकी है।

नशे के कारोबार पर पूरी तरह से लगेगी रोक

वहीं इस मामले पर डबरा सिटी थाना प्रभारी यशवंत गोयल ने कहा कि नशे के कारोबारियों पर पुलिस समय-समय पर कार्रवाई करती रही है। और अगर कहीं भी शहर में नशे का कारोबार चल रहा है तो यह मामला उनके संज्ञान में अभी अभी आया है। जल्द ही पुलिस डबरा में नशे के कारोबार पर पूरी तरह रोक लगाएगी।
डबरा से अरुण रजक की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News