Dabra News : आशा उषा कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन जारी, कांग्रेस विधायक का मिला समर्थन

Dabra News : मध्य प्रदेश में आशा, उषा कार्यकर्ताओं की अनिश्चितकालीन हड़ताल लगातार 20वें दिन जारी रही। ऐसे में जब चुनाव सिर पर है तो आशा, उषा कार्यकर्ताओं का आंदोलन तेज हो गया है। उन्हें लगातार कांग्रेस नेता भी समर्थन दे रहे हैं। वहीं आज इस आंदोलन को कांग्रेस के विधायक सुरेश राजे का समर्थन मिल गया है। आंदोलन के दौरान धरना स्थल पर पहुंच गए। यहाँ पर आशा, उषा कार्यकर्ताओं ने विधायक को प्रदेश सरकार के नाम ज्ञापन सौंपा।

कांग्रेस विधायक का मिला आश्वासन

डबरा विधायक सुरेश राजे ने बताया कि आशा उषा कार्यकर्ताओं द्वारा वेतन वृद्धि और अन्य मांगों को लेकर कहा कि उनकी मांगे बिल्कुल जायज है उन्होंने आगे कहा कि 2018 में बनी कमलनाथ सरकार के समय पर आशा उषा कार्यकर्ताओं की मांगों पर विचार किया जाता उससे पहले कुछ भारतीय लोगों ने कांग्रेस सरकार को गिरा दिया। उन्होंने वोटों वाली सरकार को गिराकर नोटों वाली सरकार तैयार कर ली साथ ही उन्होंने बताया कि कांग्रेस की सरकार प्रदेश में आने के बाद आशा को आशा में बदल दिया जाएगा निराशा उनके हिस्से में नहीं आएगी।

यूनियन की एक आशा कार्यकर्ता अरुणा झा ने बताया कि पूरे मध्यप्रदेश में आशा कार्यकर्ता और पर्यवेक्षकों द्वारा उनकी निम्न मांगों को लेकर हड़ताल पर है। जिसके चलते आज डबरा कांग्रेस विधायक सुरेश राजे को प्रदेश सरकार के नाम उनकी मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया है। आशा कार्यकर्ता अरुणा झा ने बताया कि वह महंगाई के हिसाब से वेतन वृद्धि की मांग कर रही हैं क्योंकि उन्हें जो ₹2000 दिए जाते हैं उनसे उनका गुजारा नहीं चलता साथ ही उन्होंने मध्य प्रदेश सरकार से मांग की है कि आशा कार्यकर्ताओं को 10000 वेतन और आशा सहयोगी बहनों को ₹15000 का वेतन प्रारंभ किया जाए। क्योंकि आशाओं द्वारा इतना कार्य किया जाता है जब डिलीवरी लेकर वह आती है तो उन्हें बैठने तक की जगह अस्पतालों में नहीं है ना ही उनके लिए कोई सुविधाएं सरकार द्वारा दी गई हैं।

डबरा से अरुण रजक की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News