Dabra News : कर्रा नहर की पुलिया के पास से अर्द्ध रात्रि में चोर ले उड़े ट्रॉली, पुलिस ने शुरू की जांच

पुलिस ने पीडित से शिकायती आवेदन लेकर जाँच शुरू कर दी। साथ ही पीड़ित ने अज्ञात चोरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग की है।

dabra police

Dabra News : पुलिस डाल-डाल, चोर पात-पात वाली कहावत सटीक बैठ रही है। पुलिस कई चोरियाें का अभी तक खुलासा नहीं कर पाई है। वहीं इन दिनों चोरियों की वारदातों में इजाफा हो रहा है। ऐसा ही एक मामला डबरा सिटी थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम कर्रा नहर की पुलिया के पास देखने को मिला है। जहां ट्रॉली के सेंटर बुल्ट और पटा टूट जाने के कारण पीडित ने ईंटों से भरी ट्रॉली को पलटी किया। लेकिन ट्रॉली पटा टूटने से इधर से उधर नहीं हो सकी। इसके बाद ट्रॉली मौके पर ही खड़ी रही यह घटना 26 मई की रात्रि 12 बजे की है। लेकिन जैसे ही 27 मई को सुबह 7 बजे जब पीडित उस स्थान पर पहुंचा तो पीडित को ट्रॉली नहीं मिली। ट्रॉली न मिलने के बाद पीडित पुलिस थाने पहुंचा और ट्रॉली चोरी होने की सूचना पुलिस को दी पुलिस ने आवेदन लेकर पीडित को आश्वासन दिया है कि पुलिस पूरे मामले की जांच करेगी।

क्या है पूरा मामला

बता दें कि पीड़ित मुरारी प्रजापति ने बताया कि 25 मई 2024 की बात है कि मुरारी ईंट चिमनी चैतूपाडा से डबरा के लिये एक ट्रॉली ईटों से भरी रवाना हुई और ईटों से भरी हुई ट्रॉली कर्रा नहर के पास पहुंची ही थी कि अचानक ट्रॉली के सेंटर बुल्ट और पटा टूट गये। जिससे ट्रॉली एक स्थान पर थमकर रह गई। पीडित मुरारी ने 26 तारीख की रात्रि 12 बजे ईटों से भरी ट्रॉली को पलटी करके मिस्त्री लेने चला गया। पीडित ने 26 मई की रात्रि 12ः30 बजे तक ट्रॉली को देखा लेकिन जब पीडित 27 मई की सुबह उक्त स्थान पर पहुंचा तो पीडित को ट्रॉली नहीं मिली।

ट्रॉली नहीं मिलने पर पीडित पुलिस थाने पहुंचा और पुलिस को पूरी घटना से अवगत कराया। पुलिस ने पीडित से शिकायती आवेदन लेकर जाँच शुरू कर दी। साथ ही पीड़ित ने अज्ञात चोरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग की है।
डबरा से अरुण रजक की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है।वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News