मंदसौर,डेस्क रिपोर्ट। भारत कितनी भी तरक्की (Developed) क्यों ना कर लें, पर लोग अपने दिमाग से जातिगत का भेदभाव (Caste Discrimination) निकालने के लिए तैयार ही नहीं है। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) से एक बार फिर जातिगत भेदभाव (Caste discrimination) करने का मामला सामने आया है, जहां मंदसौर में दबंगों द्वारा एक दलित की बारात (Marriage Procession) रोक कर बारातियों के साथ मारपीट की घटना को अंजाम दिया गया। पुलिस ने 8 दबंगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। सभी आरोपियों को गिरफ्तार (Arrested) कर लिया गया है।

पूरा मामला मंदसौर जिले के शामगढ़ थाना क्षेत्र के गुराडिया माता गांव का है। जहां शनिवार की रात एक दलित की बारात विवाह स्थल की ओर प्रस्थान कर रही थी, इसी दौरान 8 दबंगों द्वारा बरात को रोक दिया गया। बरात रुकने के बाद दबंगों द्वारा डीजे चला रहा युवक, दूल्हा और उसके परिजनों के साथ मारपीट की गई। मारपीट के साथ जातिसूचक शब्दों बोलकर बारातियों की बेइज्जती भी की गई। जब पूरे मामले की सूचना पुलिस को मिली तो उसने मौके पर पहुंचकर मामले को शांत कराया और पुलिस द्वारा समझाइश दी गई। मामला शांत होने के बाद देर रात पुलिस की मौजूदगी में दोबारा बारात निकाली गई।

ये भी पढ़े- कर्मचारियों को हफ्ते में करना होगा 4 दिन काम, 3 दिन मिलेगी छुट्टी, जल्द जारी होगा नोटिफिकेशन

मिली जानकारी के अनुसार आरोपी नहीं चाहते थे कि गांव में घोड़ी पर बैठ कर कोई भी दलित अपनी बारात निकाले और उनके घर के सामने से निकले। जिसको लेकर बराती पक्ष और दबंगों के बीच विवाद खड़ा हो गया। पुलिस ने प्रत्यक्षदर्शियों की शिकायत पर 8 दबंगों पर एससी-एसटी एक्ट सहित कई गंभीर धाराओं में केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

बता देें कि मंदसौर में यह पहला मामला नहीं है जब किसी दलित की बरात को रोका गया हो। इससे पहले भी लगातार तीन मामले सामने आ चुके हैं। बीते साल 29 नवंबर को मंदसौर के सुवासरा थाना क्षेत्र के खेड़ा गांव में और नारायणगढ़ थाना क्षेत्र के रूपारेल गांव में 22 दिसंबर 2020 को दलित दूल्हे की बारात पर पथराव किया गया था, जिसमें पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपियों पर मामला दर्ज कर लिया था।