देवास में रेमडेसिवीर की कालाबाजारी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, एक महिला नर्स सहित तीन आरोपी हुए गिरफ्तार

प्राईम हॉस्पिटल की नर्स पूजा कलासिया, अंकित पटेल एवं रुद्र तिवारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

देवास, अमिताभ शुक्ला। देवास (Dewas) में कोविड-19 (COVID-19) में उपयोग होने वाले महत्वपूर्ण रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdesivir Injection) की कालाबाजारी करने वाले गिरोह का देवास पुलिस ने पर्दाफाश किया है। पकड़े गए आरोपियों में सिविल लाइन रोड स्थित प्राइम हॉस्पिटल के एक मेल और एक फीमेल नर्स सहित 3 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 3 रेमडेसिवीर इंजेक्शन भी जब्त किए। रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी में और भी लोगों के शामिल होने की जानकारी पुलिस को हाथ लगी है। मामले का खुलासा पुलिस अधीक्षक डॉ शिवदयाल सिंह ने कंट्रोल रूम में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया है।

यह भी पढ़ें…IPL में कोरोना की दस्तक, KKR और CSK के सदस्य कोरोना पॉजिटिव, मैच रद्द

देवास में रेमडेसिवीर की कालाबाजारी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, एक महिला नर्स सहित तीन आरोपी हुए गिरफ्तार

आपको बता दें कोरोना संक्रमण काल में एक तरफ जहां सेवा का जज्बा देखा जा रहा है वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग आपदा को अवसर में बदलने का कोई चांस नहीं छोड़ रहे हैं। देवास में रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी की चर्चा कई दिनों से हो रही थी, जिसके चलते SP द्वारा एक पुलिस टीम का गठन किया गया, सीएसपी विवेक सिंह और डीएसपी किरण शर्मा के मार्गदर्शन में कोतवाली थाना प्रभारी उमराव सिंह और उनकी टीम ने प्राइम हास्पीटल देवास की फीमेल नर्स पूजा कलासिया जो ग्राम बारोली थाना सोनकच्छ हाल मुकाम 66 राजाराम नगर की निवासी है एवं प्राईम अस्पताल के मेल नर्स अंकित पटेल जो ग्राम मेढकीचक का निवासी है के द्वारा रेमडेसिवीर इंजेक्शन 27000 रूपए में बेचते रंगे हाथो पकड़ा। वही उनके पास से 3 रेमडेसिवीर इंजेक्शन बरामद हुए है। नर्स के द्वारा पूछताछ में बताया गया कि फायदा मेडिकल स्टोर के रूद्र तिवारी को 5 दिन पूर्व 2 इजेक्शन 22 हजार एवं 25 हजार में बेचे थे। आरोपियों के द्वारा रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी कहां से की जा रही है इसके संबंध में आरोपीगणों से सख्ती से पूछताछ की जा रही है ।

प्राइम हॉस्पिटल की फीमेल और मेल नर्स रेमडेसिवीर की कालाबाजारी में लिप्त पाए जाने के बाद प्राइम अस्पताल प्रबंधन पर भी शक की सुई घूम रही है।अस्पताल प्रबंधन की संलिप्तता के सवाल पर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है इस मामले में जो भी व्यक्ति लिप्त पाया जाएगा सभी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ रासुका की कार्रवाई करने की बात भी कही है। पुलिस की सफल कार्रवाई में थाना प्रभारी थाना कोतवाली उमराव सिंह , उनि पवन यादव , सउनि ईश्वर मंडलोई , सउनि खलील खान , प्रधान आरक्षक परवेज खान , प्रधान आरक्षक राकेश तिवारी , प्रधान आरक्षक रधुनदंन मुकाती प्रधान आरक्षक जितेन्द्र कौशल , आर मातादीन , आर शिवप्रताप सिंह सेंगर , मनीष देथलिया , महिला आरक्षक मनीषा मीणा , नेहा ठाकुर , का सराहनीय योगदान रहा।

यह भी पढ़ें…रतलाम में तीन दिनों तक बंद रहेगा समस्त किराना व्यापार, कोरोना के चलते संघ ने लिया निर्णय