देवास में होने जा रहा पौधारोपण महाअभियान, कांग्रेस ने उठाये सवाल

खुले में लगाए जाने के कारण इनकी सुरक्षा किसी तरह से भी नहीं हो पा रही। निश्चित तौर पर नगर निगम को पुराने लगाए गए पौधों का फंक्शन करना चाहिए। चाहे नया अभियान बाद में चलाना पड़े।

देवास, अमिताभ शुक्ला। देवास (dewas) की शंकरगढ़ पहाड़ी पर बड़ी संख्या में पौधारोपण (plantation) कार्य आगामी दिनों में होने जा रहा है। जिसका आयोजन देवास नगर निगम और जिला प्रशासन के द्वारा होने वाला है । इसी को लेकर अब आरोप-प्रत्यारोप और सवालों का दौर भी शुरू हो गया है। इस पर कांग्रेस ने आरोप लगे है कि पौधों के नाम पर लाखों के बजट का भृष्टाचार किया जा रहा है। कांग्रेस (Congress) का कहना है कि पहले से जो पौधे बड़ी संख्या में लगाए गए हैं और जिन पर लाखों का व्यय जनता की गाढ़ी कमाई का किया गया है। उनका संरक्षण तो नगर निगम कर नहीं पा रहा। देवास की सर्विस रोड, बालगढ़ मार्ग पर बड़ी संख्या में पौधे लगाए गए हैं , जिन पर ना तो कोई फेंसिंग की गई है ना ही ट्री गार्ड लगाया गया है । ऐसी स्थिति में मवेशी इन पौधों को खा रहे हैं और वाहन चालक भी इन पर से गुजर रहे हैं ।

यह भी पढ़ें…प्रियंका गांधी ने बेटी के जन्मदिन पर शेयर किया थ्रोबैक वीडियो, कही ये बात

इसी के साथ अगर बात की जाए तो कांग्रेस प्रदेश महामंत्री प्रदीप चौधरी ने पौधारोपण के काम में लाखों रुपए के भ्रष्टाचार की भी बात कही। उन्होंने कहा कि जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा इस काम में व्यर्थ तो कर दिया जाता है, लेकिन पौधों का संरक्षण नहीं किया जाता। और पौधों को बड़े होने से पहले ही मवेशी खा जाते हैं । उन्होंने यह भी कहा कि नया काम शुरू करने से पहले पुराने को सही कर लें। शहर के माता टेकरी, पाथवे, सर्विस रोड बालगड मार्ग, डिवाइडरों पर बड़ी संख्या में पौधारोपण किया गया है। और आज उन्हें मवेशी खा रहे हैं और पैसा व्यर्थ हो रहा है।

वही जब धरातल पर जाकर भी स्थिति देखी गई तो लगाए गए पौधों की स्थिति वाकई खराब थी । साथ ही सर्विस रोड और बालगढ़ मार्ग पर लगाये गए पौधों की हालत दयनीय दिखाई दी। और उन्हें मवेशी खाते में भी दिखाई दिये। जहां पर ना तो कोई फेंसिंग थी, ना ही कोई ट्री कार्ड। वहीं जब इस पूरे मामले पर देवास के नगर निगम आयुक्त विशाल सिंह चौहान से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वह आरोप-प्रत्यारोप में विश्वास नहीं रखते। पौधों का संरक्षण करने के लिए नगर निगम प्रयास कर रहा है। साथ ही जिस कंपनी को और फर्म को पौधे लगाने का ठेका दिया गया है। वहीं उन्हें रिप्लेस भी करता है और खराब हुए पौधे की जगह नया पौधा लगाने का काम करता है। आगामी समय में शंकरगढ़ पहाड़ी पर पौधारोपण का महा अभियान चलाया जाएगा। और पुराने लगाए गए पौधों को संरक्षण दिया जायेगा ।

अब मामला जो भी हो लेकिन कांग्रेस इस पौधारोपण के अभियान पर अब विपक्ष के रूप में अपनी सक्रियता दिखा रही है। साथ ही हकीकत में भी जब देखा गया कि किस तरह से पौधे बिना ट्री गार्ड और फेंसिंग के मवेशियों और वाहन चालकों का शिकार भी हो रहे हैं। खुले में लगाए जाने के कारण इनकी सुरक्षा किसी तरह से भी नहीं हो पा रही। निश्चित तौर पर नगर निगम को पुराने लगाए गए पौधों का फंक्शन करना चाहिए। चाहे नया अभियान बाद में चलाना पड़े।