Dhar News: साइबर क्राइम ब्रांच ने चोर गैंग के 4 सदस्यों को किया गिरफ्तार, चोरी की वजह कर देगी आपको हैरान

Dhar News: धार में साइबर क्राइम ब्रांच को एक बडी सफलता मिली है। जिसमें शातिर चोर गैंग के चार सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस को उनके पास 16 लाख 35 हजार रुपये की संपत्ति बरामद की गई है। जिसमें सोने-चांदी के गहने और अन्य कई कीमती समाग्री शामिल है। पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह ने चोरी के पीछे की वजह भी मीडियाकर्मियों को बताई है। जिसे जानकर आपको भी हैरानी होगी।

4 चोरों पर दर्ज हुआ प्रकरण

मुखबिर की सूचना पर साइबर क्राइम ब्रांच और एसपी आदित्य प्रताप सिंह की स्पेशल टीम ने चार शातिर आरोपियों पान सिंह, दिनेश, अम्बु उर्फ अंबाराम और रमेश चौहान को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही पुलिस ने गिरोह से चोरी के जेवरात खरीदने वाले अलीराजपुर जिले के ग्राम बोरी के एक सराफा व्यापारी गौरव जैन को भी आरोपी बताया है। पकड़े गए आरोपियों के पास से 300 ग्राम सोने के जेवर, 2 किलो चांदी के जेवर, इलेक्ट्रॉनिक तोल कांटा और 9270 रुपए कैश सहित चोरी की वारदातों को अंजाम देने के लिए उपयोग में किए जाने वाले औजार भी बरामद किए है। पुलिस ने इनके खिलाफ विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कर लिया और अब वह आगे की कार्रवाई में जुटी हुई है।

ये हैं चोरी की वजह

इस मामले में हैरान करने वाली बात यह है कि चोर गिरोह केवल पुलिस लाइन में ही चोरी को अंजाम दे रहे हैं। दरअसल, पूर्व में किए अपराधों पर पुलिस की कार्रवाई से नाराज होकर मध्यप्रदेश की पुलिस लाईनों को अपना निशाना बनाते हुए चोरी की वारदातों को लगातार अंजाम दे रहा थे। इस शातिर चोर गिरोह ने खंडवा, खरगोन, देवास, हरदा और नर्मदापुरम के पुलिस लाइनो में करीब 35 से अधिक चोरी की वारदातों को अंजाम दिया गया है। इसके अलावा चोर गिरोह के सदस्य धार जिले के टांडा और आसपास के है और मध्य प्रदेश सहित अन्य प्रदेशों में भी ये बडी आपराधिक वारदातों को अंजाम दे चूके है।
धार से मो अल्ताफ़ धार की रिपोर्ट


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News