धार में लोकायुक्त पुलिस की बड़ी कार्रवाई, सहायक लेखा अधिकारी को 13,000 रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

Amit Sengar
Published on -
jabalpur

Dhar News : सरकार की सख्ती के बावजूद भ्रष्ट शासकीय सेवक रिश्वत लेने से बाज नहीं आ रहे है, आज नये साल 2024 के तीसरे ही दिन एक भ्रष्ट शासकीय सेवक लोकायुक्त के जाल में फंस गया, इंदौर लोकायुक्त पुलिस की टीम ने रिश्वत लेते हुए जनपद पंचायत के सहायक लेखा अधिकारी को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है।

क्या है पूरा मामला

इंदौर लोकायुक्त पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, धार जिले के धर्मपुरी जनपद पंचायत के पगार गांव के पूर्व सरपंच के पुत्र महेंद्र सिंह ठाकुर ने इंदौर लोकायुक्त कार्यालय में एक शिकायती आवेदन दिया था, जिसमें जनपद पंचायत के सहायक लेखा अधिकारी द्वारा रिश्वत मांगे जाने की शिकायत की थी।

फरियादी ने आवेदन में बताया कि वर्ष 2015 से 22 तक उनकी माँ पगार गांव में सरपंच रही थी उनके कार्यकाल के दौरान विकास कार्यों का ऑडिट कराने के नाम पर जनपद पंचायत में पदस्थ सहायक लेखाधिकारी आशाराम भगौरे द्वारा 13,000 रुपए रिश्वत मांगी जा रही है।

शिकायती आवेदन के बाद लोकायुक्त ने फरियादी को एक रिकॉर्डर दिया और रिश्वत मांगे जाने की पुष्टि होने पर ट्रेप की प्लानिंग की, तय समय पर आज फरियादी महेंद्र सिंह ठाकुर 8000 रुपये की रिश्वत लेकर कार्यालय जनपद पंचायत धर्मपुरी पहुंचा।

पूर्व सरपंच के पुत्र महेंद्र सिंह ठाकुर ने जैसे ही जनपद पंचायत के सहायक लेखा अधिकारी को रिश्वत की राशि 8000 रुपये दिए वैसे ही लोकायुक्त की टीम ने उसे रंगे हाथ दबोच लिया। जबकि पहली किश्त के 5000 रूपए पहले ही दे चुका था। इंदौर लोकायुक्त पुलिस ने सहायक लेखा अधिकारी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

धार से मो अल्ताफ़ की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News