कोरोना के साथ भी कोरोना का बाद भी, इंदौर में अनूठे प्रयोग के साथ नई ओपीडी की शुरुआत

इंदौर में कोरोना ने किस कदर हडक़म्प मचाया है, इसका प्रमाण वो सरकारी आंकड़े है जो ये बताने के लिए काफी है कि मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में कोविड- 19 का सबसे ज्यादा प्रभाव इंदौर पर पड़ा है।

इंदौर, आकाश धौलपुरे। इंदौर (indore) में कोरोना (Corona) ने किस कदर हड़कंप मचाया है, इसका प्रमाण वो सरकारी आंकड़े है जो ये बताने के लिए काफी है कि मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में कोविड- 19 (COVID-19) का सबसे ज्यादा प्रभाव इंदौर पर पड़ा है। वर्तमान में कुल कोविड पॉजिटिव मरीजों की संख्या 34373 हो गई है, जिनमे से 685 लोगों की मौत हो गई है। वही 31738 लोग कोरोना से ठीक होकर स्वस्थ हो चुके है वही 1950 मरीजो का इलाज जारी है।

इधर, इन आंकड़ों को ध्यान में रखते हुए इंदौर में पोस्ट कोविड -19 इलाज की व्यवस्था भी की गई है क्योंकि करीब 31 हजार से ज्यादा लोग कोरोना की जंग जीत चुके है। लेकिन बावजूद इसके उनमें से कई लोगों के शरीर मे नई बीमारियों के लक्षण की आशंका बनी हुई है। लिहाजा, आज से इंदौर में पोस्ट कोविड-19 के लिए, एम.वाय. अस्पताल में नई ओ.पी.डी. शुरू की गई है। गुरुवार को संभागायुक्त डॉ.पवन कुमार शर्मा के मुख्य आतिथ्य में एमजीएम मेडिकल कॉलेज के सभागृह में नई ओपीडी का शुभारंभ किया गया। इस ओपीडी में पोस्ट कोरोना फॉलोअप की शुरुआत होगी, जिसमें कोरोना संक्रमण से ठीक हुए रोगियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा। इन सभी रोगियों की एक ही जगह जांच करके उन्हें व्यवस्थित तरीके से सही निदान हेतु विशेषज्ञ चिकित्सकों के पास भेजा जाएगा, ताकि उनका रोग आगे बढऩे से रोका जा सके। कोविड – 19 की जंग लडक़र स्वस्थ हुए रोगियों को किस तरह की परेशानियां आ रही हैं इसका विश्लेषण कर डाटा भी एकत्रित किया जाएगा। कोरोना जैसी नई व खतरनाक बीमारी के लक्षण, लंबे समय के दुष्परिणाम एवं विभिन्न अंगों पर इसके प्रभाव के बारे में विस्तृत अध्ययन भी नई ओपीडी के जरिये किया जाएगा ताकि भविष्य में डॉक्टर्स और लोगो को बचाव एवं लक्षणों के बारे में समुचित जानकारी मिल सके।

नई ओपीडी के शुरू हो जाने के बाद अब उन मरीजों को राहत मिलेगी जो कोरोना को तो हरा चुके है लेकिन उनके जीवन मे आई नई बीमारी ने उनकी मुश्किलें बढ़ा दी है। ऐसे में अब पोस्ट कोविड देखभाल और जांच से उनके मुश्किलें बहुत हद तक कम हो सकेगी।