गुना, संदीप दीक्षित। गुना (Guna ) शहर के भुल्लनपुरा में मारपीट का मामला सामने आया है जहां लोन की वसूली कराने आए बैंकर्मियों ने कर्जदारों से गुंडों जैसा बर्ताव किया। कर्जदार गुहार लगाता रहा कि कोरोना की वजह से दुकान बंद रही तो किस्त कैसे भरता? लेकिन बैंक के कर्मचारियों ने एक नहीं सुनी और गुंडों की तरह बर्ताव करते हुए बीच सड़क पर दुकानदार की जमकर धुनाई कर डाली।

यह भी पढ़ें…1998 में की थी मारपीट, सजा के डर से हो गए थे फरार, 20 सालों बाद पुलिस ने किया गिरफ्तार

मारपीट के दौरान बीच-बचाव करने आये कर्जदार के पिता, भाई और भाभी को भी नहीं छोड़ा। बैंक कर्मचारियों का इस तरह का बर्ताव देखकर आसपास के लोग कहते नजर आये कि यह बैंक के कर्मचारी या गुंडे। वहीं यह घटना सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गई। बहरहाल, फरियादी की शिकायत पर शहर कोतवाली ने एचडीएफसी बैंक (HDFC bank) के तीन कर्मचारियों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कर लिया है।

पूरा मामला इस प्रकार है कि भुल्लनपुरा में दूध डेयरी चलाने वाले विनोद पुत्र रमेशचंद्र ओझा ने एचडीएफसी बैंक से तीन लाख रुपए का प्रोपर्टी लोन लिया था। इस लोन की मासिक किश्त 11 हजार रुपए है। विनोद 18 महीनों से लोन की किश्तें नियमित भर रहा था। लॉकडाउन और कोरोना की वजह से कुछ किस्तें नहीं भर सका तो बैंक से राहुल, जैकी और सचिन नामक तीन कर्मचारी वसूली करने पहुंच गए। विनोद तीनों कर्मचारियों को अपनी परेशानी बता हरा था कि वह लॉकडाउन की वजह से किश्त नहीं भर सका, जल्द ही राशि चुका देगा। लेकिन कर्मचारियों ने बदतमीजी शुरु कर दी और विनोद से हाथापाई होने लगी। देखते ही देखते कर्मचारियों में शामिल एक युवक ने डंडा उठा लिया और विनोद को पीटना शुरु कर दिया। कुछ देर बाद बीच-बचाव करने आए विनोद के पिता रमेशचंद्र को भी युवकों ने पीटा। मौके पर ही मारपीट से रोक रहे विनोद के भाई और भाभी से भी मारपीट कर दी गई। काफी देर तक विनोद के घर के बाहर यह घटनाक्रम चलता रहा। वही पुरे मोहल्ले वाले इस नज़ारे को देख कर एक ही बात कहते रहे कि ये बैंक कर्मचारी है या गुंडे। इस घटना के बाद में विनोद ने शहर कोतवाली में तीनों कर्मचारियों के खिलाफ दर्ज कराई है।