सांसद डॉ केपी यादव का फिर हुआ अपमान, शिलालेख पट्टीका से नाम गायब

चुनाव में पटखनी देने तैयार यादव समाज के लोग।

गुना, विजय कुमार जोगी ।बमोरी विधानसभा का उपचुनाव 3 नवंबर को होना है जिसकी आचार संहिता भी लागू हो गई है। इससे पूर्व बमोरी विधानसभा क्षेत्र के ग्राम भदौरा में दो सड़कों का भूमि पूजन हुआ जिसकी शिलालेख पट्टिका पर एक बार फिर गुना शिवपुरी सांसद डॉक्टर कृष्ण पाल सिंह यादव का नाम राजनीति के चलते फिर से गायब करवा दिया, बार-बार अपने सांसद का अपमान होने से उनके समर्थकों के साथ अब यादव समुदाय भारी रोष में आ गया है और बमोरी उपचुनाव में मंत्री सिसोदिया को सबक सिखाने को अब पूरी तरह कमर कस कर तैयार बैठा है।

बार बार सांसद केपी का अपमान

पूर्व में भी जमरा गांव में शिलान्यास के दौरान सांसद का नाम शिलालेख पट्टीका पर नहीं था। विरोध बढ़ने पर नाम बढ़ाया गया लेकिन अब एक बार फिर से जानबूझकर सिंधिया समर्थकों ने सांसद केपी यादव का नाम कटवाया,जबकि शिलालेख पट्टीका पर पंचायत मंत्री के अलावा जिला अध्यक्ष गजेंद्र सिंह सिकरवार गुना विधायक गोपीलाल जाटव सहित सरपंच सचिव के नाम तक दर्ज थे। सांसद का अपमान करने के उद्देश्य जानबूझकर उनका नाम शिलालेख पट्टीका में नहीं लिखा, जिससे सांसद के समर्थक बार यादव समुदाय में भारी रोष देखा जा रहा है।

सांसद के अपमान से आहत समर्थक

अपने सांसद के अपमान से आहत समर्थक व यादव समुदाय अब एकदम खुलकर विरोध के स्वर उठाने लगा है। समर्थकों व समाज बंधुओं का कहना है कि बमोरी विधानसभा उपचुनाव में मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया को करारी शिकस्त देने के लिए अब हमने रणनीति बना ली है जिसके तहत यादव समुदाय के अलावा हमारे अन्य मिलने जुलने वालों से भी सिंधिया समर्थक मंत्री सिसोदिया को वोट न देने की अपील गांव-गांव जाकर की जाएगी। साथ ही सिसोदिया द्वारा वन भूमि पर कराए जा रहे अवैध अतिक्रमण गुंडागर्दी जनपद के कार्यों में गोलमाल घटिया निर्माण सामग्री का उपयोग आदि मुद्दों को उठाया जाकर निष्पक्ष जांच की मांग की जाएगी। साथ ही संपूर्ण विधानसभा क्षेत्र में मंत्री का खुलकर विरोध शुरू हो गया है। पूर्व में मंत्री द्वारा यादव समुदाय के कद्दावर नेताओं को इकट्ठा कर समाज बंधुओं को मक्खन लगाने का प्रयास किया लेकिन अब एक बार फिर से अपने सांसद का अपमान होते देख समर्थक सहन नहीं कर पाए,वहीं समाज बंधुओं ने भी मंत्री सिसोदिया को धूल चटाने का मन बना लिया है।