अब स्टाफ नर्सों ने खोला मोर्चा, 8 सूत्रीय मांगों को लेकर विरोध शुरु

गुना, संदीप दीक्षित। जूनियर चिकित्सकों की हड़ताल अभी खत्म हुई ही थी कि सरकारी अस्पतालों में पदस्थ स्टाफ नर्सों ने सरकार की मुसीबत बढ़ा रही हैं। गुना जिले के सरकारी अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्रों में पदस्थ सभी 170 स्टाफ नर्स ने 8 सूत्रीय मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन शुरु कर दिया है। शनिवार को आंदोलन की शुरुआत करते हुए नर्सों ने काली पट्टी बांधकर काम किया।

कलेक्टर का ऑक्सीजन मैनेजमेंट, हर जगह हो रही जमकर तारीफ

फिलहाल नर्सों के विरोध की वजह से अस्पतालों में कामकाज प्रभावित नहीं हो रहा है। लेकिन 22 जून से इनका आंदोलन उग्र हो जाएगा। क्रमबद्ध आंदोलन के तहत 22 जून को स्टाफ नर्स एक दिन सामूहिक अवकाश पर रहेंगी। इसके बाद भी मांगें नहीं मानी गईं तो 25 जून से अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरु हो जाएगी। स्टाफ नर्सों की मांग है कि उन्हें समानता के आधार पर वेतन दिया जाए। खाली पदों को जल्द भरा जाए और रात्रिकालीन भत्ता अलग से मुहैया हो। विरोध-प्रदर्शन के पहले दिन गुना जिला अस्पताल के बाहर स्टाफ नर्स ने प्रदर्शन भी किया और सरकार को 22 जून तक मांगें मानने का अल्टीमेटम भी दिया है।