ATM काटने वाली मेवाती गैंग का पर्दाफाश, कैश बरामद, मास्टर माइंड गिरफ्तार, तिहाड़ जेल में बनाई थी योजना

आपको बता दें कि मेवाती गैंग ग्वालियर के मुरार और बहोड़ापुर इलाके में स्थित स्टेट बैंक आफ इंडिया के दो एटीएम बूथ पर क्रेटा कार से पहुंचे। मशीनें काटी और दोनों एटीएम से 53.04 लाख रुपये निकाल ले गए। उसके बाद इसी गैंग ने मुरैना में 14 लाख रुपये चोरी किये, मुरैना टोल से भागे और सैंया में एटीएम काटने की कोशिश की लेकिन असफल रहे।

Gwalior Crime News : ग्वालियर पुलिस ने बैंक एटीएम काटकर (ATM Thief)  लाखों की चोरी करने वाली मेवाती गैंग का पर्दाफाश (Mewati gang busted) किया है, पुलिस ने गैंग के मास्टर माइंड को धौलपुर राजस्थान से गिरफ्तार किया है, पुलिस ने मास्टर माइंड के पास से ATM काटकर चोरी की गई रकम में से 8 लाख रुपये बरामद किये है, शुरूआती पूछताछ में आरोपी ने बताया कि इसने तिहाड़ जेल में मैबाती गैंग के सदस्यों के साथ मिलकर एटीएम काटने की योजना बनाई थी। गिरफ्तार आरोपी ग्वालियर पुलिस द्वारा पहले भी दो बार गिरफ्तार हो चुका है और ग्वालियर जेल में बंद रह चुका है।

10 और 11 जनवरी की रात में दो ATM को काटकर की थी चोरी 

ग्वालियर पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि पिछले दिनों 10 और 11 जनवरी की दरमियानी रात ग्वालियर में दो बैंक ATM काटने की वारदात हुई थी, बदमाश मुरार थाना क्षेत्र और बहोड़ापुर थाना क्षेत्र में स्थित SBI की ATM को काटकर उसमें रखा लाखों रुपया चोरी कर फरार हो गए थे घटना के बाद से ग्वालियर क्राइम ब्रांच, मुरार और बहोड़ापुर थाने की टीमें बदमाशों की तलाश कर रही थी।

राजस्थान, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मेवात में पुलिस ने डाला डेरा 

बदमाशों की तलाश के लिए ग्वालियर पुलिस की टीमों को राजस्थान, दिल्ली, उत्तर प्रदेश भेजा गया में पुलिस की टीमें बनाकर भेजा गया। एक टीम मेवात के नूंह इलाके में भी डेरा डाले हुए थी, उन्होंने बताया कि इसी दौरान मुखबिर से पुख्ता सूचना प्राप्त हुई कि ग्वालियर में एटीएम काटकर चोरी करने वाली गैंग का मास्टरमाइंड धौलपुर में देखा गया है। उन्होंने सूचना मिलते ही एडिशनल एसपी क्राइम राजेश  डंडोतिया और अन्य अधिकारियों को आरोपी की गिरफ़्तारी के निर्देश दिए।

मास्टर माइंड को धौलपुर से किया गिरफ्तार, तिहाड़ में बनाई योजना  

वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर पुलिस टीमें  मुखबिर की पुख्ता सूचना के आधार पर एटीएम काटने वाली गैंग के मास्टर माइण्ड को पकड़ने धौलपुर गईं और उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के पास से 8 लाख रुपये और गैस कटर, गैस सिलेंडर आदि बरामद हुआ,  मास्टर माइण्ड ने पूछताछ  में बताया कि वो चोरी के आरोप में तिहाड़ जेल दिल्ली में बंद हुआ था, जहां उसका संपर्क एटीएम काटने वाली मेवाती गैंग से हुआ था उसने तिहाड़ जेल में ही प्लानिंग की और फिर ग्वालियर एवं मुरैना में अपने साथियों के साथ ATM मशीनों को काटने की वारदात की ।

आरोपी को ग्वालियर पुलिस पहले भी कर चुकी है दो बार गिरफ्तार  

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी  धौलपुर का रहने वाला है वो पहले ग्वालियर में पांच साल रहा है उसने एक ठेकेदार की गाड़ी चलाई है, इसलिए इसे ग्वालियर की पूरी जानकारी थी , ये पहले ग्वालियर में दो ट्रक चोरी में और  एवं एक टेंकर चोरी में जेल जा चुका है, पूछताछ में आरोपी द्वारा बताया गया कि उसने दिसंबर माह में ग्वालियर व मुरैना के एटीएम बूथों की रैकी की थी तथा तिहाड़ जेल से संपर्क में आये मेवाती गैंग के सदस्यों के साथ मिलकर ग्वालियर व मुरैना में एटीएम काटने की योजना बनाई थी।

मेवाती गैंग ने इस तरह बनाई थी योजना

एसपी ने बताया कि मेवाती गैंग के चार सदस्य दिल्ली के रजिस्ट्रेशन की फर्जी नंबर प्लेट लगाकर धौलपुर आये, इस आरोपी ने उनकी मदद की,  गैंग के सदस्यों को गैस सिलेण्डर व गैस कटर उपलब्ध कराकर एटीएम काटने की योजना बताई। उसके बाद यह सभी लोग मुरैना होते हुए ग्वालियर पहुंचे तथा ग्वालियर शहर में प्रवेश करते ही इन लोगों ने अपनी कार एक सूनसान जगह पर रोककर उसमें ग्वालियर की नंबर प्लेट लगाई। इसके बाद ग्वालियर शहर में पूर्व से रेकी की गई दो स्थानों पर एटीएम को गैस कटर से काटकर लाखों रुपये निकाल लिए। इसके बाद यह लोग मुरैना पहुंचे, मुरैना में इन लोगों ने एक सूनसान एटीएम को काटकर उससे भी पैसे निकाल लिए। पूछताछ में आरोपी द्वारा बताया गया कि वारदात करने से पहले आने का रूट व वारदात करने के बाद भागने का रूट पूर्व से ही निर्धारित किया गया था।

ग्वालियर एसपी ने 10 हजार के रिवार्ड की घोषणा की 

एसपी अमित सांघी ने बताया कि गिरफ्तार मास्टर माइंड बहुत शातिर अपराधी है, उन्होंने बताया कि इस घटना में कुल पांच आरोपी थे जिसमें से दो आरोपियों को दिल्ली पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, अब शेष दो आरोपी बचे है जिसकी भी जल्दी ही गिरफ़्तारी होगी, उन्होंने घटना का पर्दाफाश करने वाली टीम को 10 हजार रुपये का कैश रिवार्ड देने की घोषणा की है, उन्होंने कहा कि आरोपियों ने अभी तक चार वारदातें करना स्वीकार किया है, आरोपी को रिमांड पर लिया जायेगा, उन्होंने उम्मीद लगे कि आरोपी से और भी वारदातों का खुलासा होगा।

इसलिए SBI के ATM को बनाते हैं निशाना 

SBI की ATM को ही निशाना बनाये जाने के सवाल पर एसपी ने कहा कि उन्होंने इस विषय में बैंक अधिकारियों से भी पता लगाया उन्होंने कहा कि SBI के ATM  का बॉक्स जिस मेटल से बना होता है उसे तुलनात्मक रूप से दूसरे बैंक की ATM से काटना आसान हो जाता है, गैस कटर से आसानी से  इसे 15 से 20 मिनट में काट लेते हैं जबकि अन्य बैंकों के ATM में अधिक समय लगता है इस बीच अलर्ट चला जाता है या पुलिस का गश्ती दल देख लेता है इसलिए ये SBI के ATM को ही निशाना बनाते है, एसपी ने बताया कि इनके पास एक ऐसा डिवाइस भी हा जिससे ये पता लगा लेते है कि ATM भरा है या खाली?उसके बाद ये वारदात करते हैं, पुलिस आरोपी से कड़ी पूछताछ कर रही है।

ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट