एक समोसा मांगने पर भड़के दुकानदार ने किया ग्राहक पर रॉड से हमला! वीडियो हो रहा वायरल, प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया वाकया

ग्राहक घायल होकर वहीं गिर पड़ा, वहां मौजूद दूसरे ग्राहकों ने उसे उठे अपानी पिलाया , हमले से ग्राहक बहुत घबरा गया, लोगों ने इस हमले का विरोध किया और दुकानदार पर भड़क गए, इन्ही में से किसी ने वीडियो बनाई शुरू कर दी और उसमें पूरा घटनाक्रम बता दिया।

samosa

Gwalior News : ग्वालियर चंबल अंचल में उत्तेजना एक सामान्य बात है यहाँ बात बात में झगड़ा और मारपीट हो जाती है लेकिन इस बार मारपीट का ऐसा घटनाक्रम सामने आया है जो सुनने में ही अजीब लग रहा है, लेकिन प्रत्यक्षदर्शियों का बनाया वीडियो पूरे घटनाक्रम की गवाही दे रहा है जो इस समय सोशल मीडिया पर वायरल है।

समोसा मांगने पर कर दिया रॉड से हमला 

दरअसल मारपीट का एक मामला समोसे से जुड़ा है ..जी हाँ समोसे से जुड़ा है…ग्वालियर के स्टेशन बजरिया क्षेत्र में एक नाश्ते की दुकान है बृजवासी कचोड़ी वाला,  जहाँ समोसे, कचोड़ी, बेड़ई, इमरती, जलेबी मिलते हैं, दुकान पुरानी और प्रसिद्द होने के कारण यहाँ भीड़ लगी रहती है, दुकान पर पहुंचे एक ग्राहक ने जब दुकानदार से एक समोसा मांगा तो उसने देने से इंकार किया , दुकानदार बोला एक समोसा नहीं मिलेगा, दो लेने पड़ेंगे।

हमले से घायल ग्राहक दुकान पर ही गिर पड़ा 

ग्राहक ने कहा कि उसे एक समोसा ही चाहिए तो दुकानदार ने तेज आवाज में कहा कि खुल्ले पैसे दे, ग्राहक ने कहा कि खुल्ले पैसे नहीं है तो इसी बात पर दुकान संचालक नाराज हो गया और ग्राहक को गाली देने लगा, उसके साथ मारपीट शुरू कर दी, दुकान के कर्मचारी के ग्राहक पर रॉड से हमला शुरू कर दिया, जिससे वो घायल हो गया।

दूसरे ग्राहक ने बनाई वीडियो, सुनाई दुकानदार की गुंडागर्दी की कहानी 

ग्राहक घायल होकर वहीं गिर पड़ा, वहां मौजूद दूसरे ग्राहकों ने उसे उठे अपानी पिलाया , हमले से ग्राहक बहुत घबरा गया, लोगों ने इस हमले का विरोध किया और दुकानदार पर भड़क गए, इन्ही में से किसी ने वीडियो बनाई शुरू कर दी और उसमें पूरा घटनाक्रम बता दिया, पुलिस भी मौके पर आई लेकिन वो चुपचाप देखती रही, बाद में लोगो ने दुकानदार की और हमला करने वाले उसके कर्मचारी की जमकर फटकार लगाई , अब सोशल मीडिया पर दुकानदार की गुंडागर्दी का ये वीडियो वायरल हो रहा है।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News