हरदा ब्लास्ट के दोषियों पर होगी कड़ी कार्रवाई, बोले सीएम यादव, विस्फोट घटना की जांच के लिए किया तीन सदस्यीय कमेटी का गठन

हरदा जिले में आज सुबह अवैध पटाखा फैक्ट्री में ब्लास्ट हो गया। फिलहाल, दमकल की टीम द्वारा आग बुझाने का प्रयास जारी है।

harda

Harda News : हरदा मामले में सीएम मोहन यादव ने तीन सदस्य जांच कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी तीन अलग-अलग बिंदुओं पर इस घटना की संपूर्ण जांच करेगी। इसके साथ ही सीएम यादव ने यह भी स्पष्ट किया है की घटना के दोषियों को किसी भी रूप में बक्शा नहीं जाएगा। यादव ने दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की बात की है। वहीं, दूसरी ओर घायलों के उपचार और राहत कार्य को प्राथमिकता से करने की बात भी कही है। बता दें मंगलवार दोपहर को एक अवैध पटाखे की फैक्ट्री में ब्लास्ट हो गया था। जहां मौके पर दमकल विभाग की टीम ने आग पर काबू पाया था।

harda

harda

जांच रिपोर्ट और बचाव कार्य समिति गठित

घटना की जांच को लेकर सीएम मोहन यादव ने होम सेक्रेटरी संजय दुबे को निर्देशित किया है जो इस मामले की जांच कर सीएम को रिपोर्ट सौंपेंगे। इतना ही नहीं सीएम ने बचाव राहत कार्य के लिए समिति का भी गठन किया गया है जिसकी स्वास्थ्य विभाग के एसीएस मोहम्मद सुलेमान अध्यक्षता करेंगे। इस समिति में कुल 6 लोग रहेंगे।

सीएम ने दिए निर्देश, की मुआवजे की घोषणा

हरदा मामले में सीएम मोहन यादव ने मुआवजे की घोषणा की है। सीएम ने बताया है कि हादसे में मरने वाले लोगों के परिवार को चार लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। साथ ही मामले की जांच को लेकर सीएम ने गृह विभाग को निर्देश जारी कर दिए हैं।

घायलों को बेहतर उपचार के लिए भोपाल और इंदौर ले जाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाए गए हैं।

इस मामले में भोपाल से हरदा कुल 115 एंबुलेंस भेजी जा रही हैं, साथ ही दवाइयां भी भेजी जा रही हैं। मेडिकल कॉलेज भोपाल और मेडिकल कॉलेज इंदौर से चिकित्सकों की स्पेशल टीम को भी हरदा भेजा गया है। इस मामले में मेडिकल कॉलेज भोपाल में 50 बेड और एम्स भोपाल में 10 बेड दुर्घटना पीड़ितों के लिए तैयार कर रिजर्व रखे गए हैं।

सीएम ने जारी किए थे निर्देश

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने संज्ञान लेते हुए कैबिनेट मंत्री उदय प्रताप सिंह, ACS अजीत केसरी, डीजी होमगार्ड को तत्काल मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए थे। वहीं, घटना स्थल पर NDRD, SDRF की टीमों और फायर ब्रिगेड समेत एंबुलेंस को भेजा गया था। साथ ही घायलों के बेहतर उपचार के लिए इंदौर मेडिकल कॉलेज और भोपाल एम्स में बर्न यूनिट को तैयारी रखने के भी निर्देश दिए गए है।

 

 

harda

हरदा के घायल इंदौर के एम वाय अस्पताल लाए गए आने वाले घायलों में पहला मरीज दीपा बाई उम्र 50 साल, निवासी टीटी नगर हरदा, बसंती बाई उम्र 50 साल, तीसरा मैरिज कोमल पिता भादर उम्र 22 साल तीनों ही मरीजों को इंदौर के इमेज अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टर उनका इलाज शुरू किया गया है


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News