इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की सबसे बड़ी संयोगितागंज अनाज मंडी से जुड़े दलहन व तिलहल के व्यापारियों पर अब सवाल उठने लगे है। दरअसल, 18 व्यापारियों के खिलाफ कोर्ट (court) के आदेश पर संयोगितागंज थाने (Sanyogita Ganj Police Station) में प्रकरण दर्ज हो चुका है।

यह भी पढ़ें….Morwa Police की बड़ी कार्यवाही, 120 लीटर महुआ शराब के साथ दो लोगों को किया गिरफ्तार

दरअसल, 18 व्यापारियों ने ऐसा चक्रव्यूह रचा की एक सामान्य सा दिखने वाला ब्रोकर (Broker) उस चक्रव्यूह में फंस गया। जब तक व्यापारियों को माल बेचना था तब तक वो उस ब्रोकर को राजा बना कर रख रहे थे, लेकिन जब व्यापारियों का माल बिक गया और उन्हें खरीदी करने वाले से भुगतान मिल गया तो लालची व्यापारियो ने ब्रोकर की दलाली खा ली। इधर, आरोपी व्यापारियों के समर्थन में न तो मंडी प्रशासन खड़ा है और ना व्यापारिक संगठन।

Indore News : ब्रोकर से धोखाधड़ी करने पर 18 व्यापारियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज

बतादें कि लाखों की धोखाधड़ी और करोड़ो के टैक्स नही चुकाने वाले नामी व्यापारी अब कोर्ट के आदेश के बाद अब आरोपी है। इन आरोपियों के नाम इस प्रकार है जो लाखो करोड़ो की धोखाधड़ी कर उल्टे ब्रोकर (दलाल) पर मुंबई, सतना और इंदौर में प्रकरण झूठा प्रकरण दर्ज करा चुके है। दलाल निखिल पिता ब्रजकिशोर अग्रवाल ने टैक्स चोर व्यापरियों के खिलाफ कोर्ट में केस दायर किया था, जिसके बाद तमाम सबूतों के आधार कोर्ट ने 18 नामी चना व्यापारियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने का आदेश दिया। आदेश के बाद संयोगितागंज पुलिस ने आरोपी संदीप पिता रमेशचंद्र गोयल, अनिल पिता रमेशचंद्र मित्तल, संजय ब्रजमोहन ऐरन, सुरेश बाबूलाल जाट, मुकेश बंसल, बंसीलाल चौधरी, दिनेश चौधरी, अमित भावसार, नीलेश भावसार निवासी इंदौर, गोपाल गर्ग निवासी नीमच, दिलीप अग्रवाल, धीरज अग्रवाल, विपुल अग्रवाल, सुमित अग्रवाल निवासी देवास, धानजी पटेल, भरत पटेल, नरेश रामविलास अटल, सलीम अब्दुल वहाब गाजी, नवीन शंकरलाल कटारिया, राजकुमार जग्गनाथ माहेश्वरी निवासी मुंबई और सतना के चालबाज कमलेश पटेल, प्रतीक कमलेश पटेल और ऋषि कमलेश पटेल के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है।

धोखाधड़ी और चालबाजी कर ब्रोकर की दलाली नही चुकाने वाले शातिर व्यापरियों के मामले में फरियादी निखिल पिता बृज किशोर अग्रवाल निवासी खातीवाला टैंक ने बताया कि टैक्स चोर व्यापारियों ने मेरी दलाली भी खा ली और उल्टा मुझ पर मुंबई, सतना और इंदौर में कूटरचित तरीके से कानूनी शिकायते दर्ज करा दी। इतना ही नही इन काले कारनामे करने वाले व्यापारियों ने फरियादी व उसके परिजनों को बाहरी तौर पर भी परेशान करने में कोई कोर कसर नही छोड़ी। फरियादी निखिल अग्रवाल ने बताया कि चना व्यापारियों के सिंडिकेट ने 15 सालो में मुझ पर कई झूठे मुकदमे दर्ज कराए और उन मुकदमों को दिखाकर इन लोगो ने सालो तक अधिकारियों व पुलिस को बरगलाया। जो इस पूरे सिंडिकेट ने किया वो अगर किसी ओर के साथ होता वो इस दुनिया मे जीने लायक नही होता। फरियादी निखिल अग्रवाल ने बताया कि चार साल में इस सिंडिकेट ने मेरे खिलाफ मुंबई, सतना और इंदौर में एफआईआर दर्ज कराई है। फरियादी का आरोप है कि ये लोग करोड़ो रूपये की कर चोरी करने वाले चोर। फरियादी ब्रोकर की माने तो व्यापारियो के खिलाफ कस्टम विभाग ने 350 करोड़ रुपये की कर चोरी निकाली है जिनमें से 100 करोड़ रुपये ये भर चुके है। ये लोग शहर के मठाधीशो के साथ मिलकर छूटी एफआईआर भी दर्ज कराते है और अभी 18 लोगो के खिलाफ कोर्ट के आदेश के बाद एफआईआर हुई है। फिलहाल, पुलिस अब आरोपी व्यापारियों की तलाश में जुट गई है।

यह भी पढ़ें….BU Exam : UG और PG की परीक्षाएं स्थगित, यहां देखें डिटेल्स