इंदौर में रेमडेसिविर की कालाबाजारी जारी, नकली इंजेक्शन भी पकड़ाए

इंजेक्शन को ऊंचे दामों पर बेचने के लिए कालाबाजारी करने वाले सक्रिय है। वहीं पुलिस भी अब ऐसे लोगों पर शिकंजा कसती जा रही है। ताजा मामला इंदौर के लसूड़िया थाना क्षेत्र का है जहां दो अलग-अलग मामलों में कुल 5 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

इंदौर

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर (indore) में कोरोना महामारी में दुकानदारी, कालाबाजारी (black marketing) या आसान भाषा में कहा जाए कि आपदा में अवसर (opportunity) तलाशा जा रहा है। यहां जगह-जगह पर ऐसे कारनामे सामने आ रहे हैं। ऐसे लोगों पर पुलिस (police) कार्रवाई भी कर रही है। दरअसल, इंदौर में बढ़ते कोविड पेशेंट्स के कारण रेमडेसिविर इंजेक्शन (remdesivir injection) की किल्लत बनी हुई है। ऐसे में इन इंजेक्शन को ऊंचे दामों पर बेचने के लिए कालाबाजारी करने वाले सक्रिय है। वहीं पुलिस भी अब ऐसे लोगों पर शिकंजा कसती जा रही है। ताजा मामला इंदौर के लसूड़िया थाना क्षेत्र का है जहां दो अलग-अलग मामलों में कुल 5 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें…बीजेपी सांसद और केन्द्रीय मंत्री दूसरी बार कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

बताया जा रहा है कि पहली घटना में तो बदमाशो ने हद ही कर दी। यहां गणेशराव थोरात ने पुलिस को शिकायत में बताया कि उसे उज्जवल नामक व्यक्ति ने रेमडेसिविर के नाम पर 2 नकली इंजेक्शन 20-20 हजार में बेचे है और जब डॉक्टर को उसने इंजेक्शन दिखाया तो पता चला कि वो नकली इंजेक्शन है और उसमें कोई तरल पदार्थ मिलाकर बड़ी ठगी की गई है। शिकायत के बाद पुलिस ने उज्ज्वल और उसके एक साथी को गिरफ्तार कर जांच शुरू की तो प्रारंभिक पड़ताल में पता चला कि इंजेक्शन नकली है।

इधर, कालाबाजारी करने वाले तीन आरोपियों को क्राइम ब्रांच इंदौर की टीम ने गिरफ्तार कर लसूड़िया पुलिस को सौंपा है। मिली जानकारी के मुताबिक क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी कि मानसिंह और संकेत 30- 30 हजार रुपये में इंजेक्शन बेच रहे है जिसके बाद क्राइम ब्रांच ने जाल बिछाकर मानसिंह, संकेत और एक अन्य साथी को गिरफ्तार कर लिया।नकली इंजेक्शन बेचने के साथ ही असली इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के मामले में पकड़े पांचों आरोपियों से पुलिस की पूछताछ जारी है। थाना लसूड़िया के जांच अधिकारी ओंकार सिंह ने बताया कि दूसरे मामले में इंजेक्शन नकली है या फिर असली इस मामले में पड़ताल जारी है।

यह भी पढे़ं… राहुल का मोदी पर हमला, कांग्रेसियों से कहा -सिस्टम फेल है इसलिए जनहित की बात करें

फिलहाल, आपदा काल मे अवसर तलाशने वाले कालाबाजारियों से आप बचकर रहे क्योंकि ये मरीजो की मदद करने के बजाय मुनाफा कमाने के चक्कर मे उल्टा उनकी जान आफत में डाल सकते है। हालांकि, बात ये भी सामने आ रही है कि इंदौर में हालात भी ऐसे बन गए है कि लोगो को मजबूरी में ऐसे जालसाजों के चक्कर मे पड़ना पड़ रहा है।