मास्क नहीं पहना तो होगी गिरफ्तारी, फिलहाल नहीं लगेगा Lockdown, बढ़ाई जाएगी सख्ती

वीडियो कांफ्रेंसिंग (Video Conference) के जरिये हुई बैठक में CM शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर सहित अन्य जिलों के सभी बड़े अधिकारियों को विशेष दिशा निर्देश दिए है।

पूर्व सांसद

इंदौर, आकाश धोलपुरे। जिले में प्रतिदिन बढ़ती कोरोना (Corona) मरीजों की संख्या को देखते हुए और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) द्वारा अधिकारियों की बैठक लिए जाने के पहले आशंका जताई जा रही थी कि या तो नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) के टाइमिंग को बढ़ाया जाएगा या फिर लॉकडाउन (Lockdown) जैसा कोई ठोस कदम भी उठाया जा सकता है। लेकिन, अभी इस बात को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

Indore News

फिलहाल, मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में सरकार ये चाहती है कि कोरोना (Corona) पर लगाम लगाने के साथ ही औद्योगिक गतिविधियों पर विपरीत असर न पड़े और वो सुगमता से चलें। इसे लेकर ही बुधवार को सरकार ने प्रदेश के अधिकारियों के साथ बैठक की।
वीडियो कांफ्रेंसिंग (Video Conference) के जरिये हुई बैठक में CM शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर सहित अन्य जिलों के सभी बड़े अधिकारियों को विशेष दिशा निर्देश दिए है।

ये भी पढे़– Shivpuri News: आग की भेंट चढ़ी गेंहू की फसल, लाखों का नुकसान

बात करें अगर कोरोना (Corona) के हॉट स्पॉट (Hotspot) बनते जा रहे इंदौर की तो, यहां अब जिला कलेक्टर मनीष सिंह सख्ती से कोरोना से निपटने की तैयारी में जुट गए है। इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने बैठक के बाद कहा कि सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बैठक के दौरान हर जिले की कोरोना को लेकर समीक्षा की।

उन्होंने बताया कि प्रदेश के सीएम ने जानकारी ली किस प्रकार से हॉस्पिटल में व्यवस्था है, किस प्रकार से संक्रमण को रोका जाए और किस प्रकार से वैक्सीनेशन की योजना हो। इन बातों को लेकर विस्तृत चर्चा आज वीडियो कांफ्रेसिंग (Video Conferencing)  के जरिए की गई। वहीं CM ने बैठक में माइक्रो कंटेन्मेंट जोन (Containment Zone) बनाने के भी निर्देश दिये है। कलेक्टर (Collector) मनीष सिंह ने इस बारे में बताया कि आने वाले 1 – 2 दिन में उन स्थानों पर ऐसे माइक्रो कंटेन्मेंट जोन बनाये जाएंगे, जहां एक ही एरिए में 15 से 25 केस आयें हों।

उन्होंने बताया कि प्रदेश के सीएम का कहना है कि जो व्यवसायिक और औद्योगिक गतिविधियां है, वो किसी भी प्रकार से प्रभावित नहीं होना चाहिये। इसके अलावा इंदौर (Indore) कलेक्टर ने साफ कर दिया 1 से 2 दिन में सख्ती बढ़ाई जाएगी और जो मास्क (Mask) नहीं लगाऐगा उसकी गिरफ्तारी भी की जाएगी। ऐसे में भले ही उस शख्स को बाद में छोड़ दिया जाएगा लेकिन, गिरफ्तारी जरूर होगी।

ये भी पढे़– Toll Tax : एमपी में बढ़ा टोल टैक्स, 75 टोल नाकों पर होगा लागू

हालांकि उन्होंने ये भी साफ किया कि ये सब इसलिए किया जा रहा है, ताकि शहर सामान्य रूप से चल सके, लोगों की व्यवसायिक और औद्योगिक गतिविधियां (Business and industrial activities) चल सके, लोगों की रोजी-रोटी चल सके, जो नौकरी पर जा रहा है वो नौकरी पर जा सके। उन्होंने कहा कि शहर को सामान्य रूप से चलाना है, तो उसके लिए आवश्यक है कि शासन, प्रशासन, जनप्रतिनिधि और सामाजिक संगठन जो गाइडेंस (Guidance) दे रहे है। उनका पालन आम जनता को करना चाहिए।

वहीं इंदौर (indore) क्लेक्टर (Collector) मनीष सिंह ने कहा कि सब कुछ जनता पर निर्भर करता है यदि ठीक से जनता ने मास्क पहन लिया और साथ मे वैक्सीनेशन (Vaccination) करा लिया तो उससे बहुत सारी चीजें संभल जाएगी जिसका प्रभाव आने वाले दिनों में देखने को मिल सकता है।

फिलहाल, इंदौर में लॉकडाउन (Lockdown) तो नहीं लगेगा। लेकिन, प्रशासन का जोर इस बात पर रहेगा कि जनता मास्क पहने और वैक्सीनेशन (Vaccination) करवाये ताकि इंदौर (Indore) में कोरोना (Corona) की चैन टूटे और फिर से आर्थिक राजधानी इंदौर (Indore) की जिंदगी दोबारा पटरी पर लौट सके।