इंदौर- मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर शुरू, कलेक्टर ने कही ये बात

इंदौर, आकाश धोलपुरे। शहर में कोरोना जिस गति से सरपट दौड़ रहा है उतनी ही तेजी से स्वास्थ्य सेवाओं को जुटाना भी जारी है। इंदौर में वर्तमान में 12 हजार से अधिक मरीजों का होम आईसोलेशन और अस्पतालो में इलाज जारी है। लेकिन बढ़ते पॉजिटिव मरीजों को ध्यान में रखते हुए प्रशासन, सरकार और सेवा संस्थाओं ने खंडवा रोड़ स्थित राधा स्वामी सत्संग व्यास परिसर के मैदान में माँ अहिल्या कोविड केयर सेंटर बनाने का निर्णय लिया था। कुछ ही दिनों में सर्वसुविधायुक्त आधुनिक कोविड केयर सेंटर का निर्माण हो गया है और गुरुवार को इसका ट्रायल रन किया गया। इस अवसर पर प्रदेश के जल संसाधन और प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट और जिला कलेक्टर मनीष सिंह मौजूद रहे। करीब 6 हजार बैड के साथ यह कोविड केयर सेंटर देश का दूसरा तो मध्य भारत का पहला कोविड केयर सेंटर होगा। इसके पहले बेंगलुरू इंटरनेशनल एग्जीबिशन सेंटर में देश का सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर बनाया गया था, जिसमें 10,100 बेडों की सुविधा है।

कोरोना प्रभारी मंत्री कमल पटेल की दो टूक- अपने मोबाइल चालू रखें सभी अधिकारी

शुरुआत में 600 बेड के जरिये इलाज की होगी शुरुआत

इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि राधा स्वामी सत्संग व्यास की पावन भूमि पर माता देवी अहिल्या कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। सीएम के निर्देश पर निर्मित किये गए कोविड केयर सेंटर में 6 हजार बेड की सुविधा उपलब्ध करवाने का प्लान है। जिसके पहले फेज में 2 हजार बेड को तैयार किया जा रहा है जिनमें से 600 बेड तैयार हो गए है और टीम भी तैयार हो गई। इसलिए 600 बेड से कोविड केयर सेंटर शुरू किया जा रहा है। इसमे हल्के लक्षण और एसिम्टोमैटिक मरीज ही लाये जाएंगे और थानेवार जो आरआरटी फील्ड में लगी है वो ही पहचान कर मरीजों को यहां लाएंगे। कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि ऐसे मरीज जिनके घरों में जगह नहीं है, ऐसे मरीज जिनकी उम्र ज्यादा है और उन्हें कई तरह की बीमारियां हैं, ऐसे सभी पेशेंट को यहां लाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जब सेंटर सेटल्ड हो जाएगा तब हल्के लक्षण वाले मरीजो को भी यहां लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि एक दो दिन में हाउस कीपिंग, नर्सिंग स्टाफ, डॉक्टर्स और फूड एजेंसी सब सेटल हो जाएगी। उन्होंने बताया कि नया कोविड केयर सेंटर 4 सेक्टर में बांटा गया है जिसमे इंदौर मेदांता हॉस्पिटल, बॉम्बे हॉस्पिटल, चोइथराम हॉस्पिटल एवं अपोलो हॉस्पिटल द्वारा अलग अलग भागो में सूपरविजन किया जाएगा।

कलेक्टर ने बताया कि यहां वॉक इन पेशेंट का कंसेप्ट नहीं रहेगा और यहां चिह्नित एम्बुलेंस को ही प्रवेश दिया जाएगा। इससे फायदा ये होगा कि जो पेशेंट घरों में रहकर सीरियस निकलते हैं उस तरह के मरीजों को हम शुरू में ही ठीक करने का प्रयास करेंगे। कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कोविड केयर सेंटर में मरीजो के मेंटल हेल्थ का ध्यान रखा जायेगा और सुबह यहां प्राणायाम और योग भी कराया जाएगा जिसके लिये ग्राउंड में स्टेज बना दिया गया है। वही सेंटर में लाइट म्यूजिक चलेगा, टीवी स्क्रीन लगी है जिसमे रामायण और महाभारत जैसे धार्मिक धारावाहिक भी दिखाए जाएंगे ताकि लोग मेंटल लेवल पर खुद को स्वस्थ महसूस करें।

संकट के समय सभी लोग कोविड नियमों का पालन करें- तुलसी सिलावट

प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने इस मौके पर कहा कि शहर में जो जनता कर्फ्यू लगा है उसका सभी पालन करें क्योंकि ये संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए लगाया गया है। उन्होंने कोरोना को बड़ा संकट बताते हुए जनता से अपील की है लोग अपने घरों पर रहे। वही उन्होंने बताया कि इंदौर में 6 लाख 76 हजार वैक्सीन लग चुकी है और 1 मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगो को वैक्सीन दी जाएगी। वही उन्होंने संकट के बाद वारियर्स का सम्मान करने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि कोविड केयर सेंटर में अलग अलग चरणों मे सुविधाओं को बढ़ाया जाएगा। कला और संस्कृति के इस शहर में देश का दूसरा कोविड केयर सेंटर डॉ. निशांत खरे और कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देशन में शुरू हुआ है और मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूँ।