मंत्री तुलसी सिलावट ने पूर्व मंत्री को दी सलाह- “मर्यादा में रहे जीतू पटवारी”

इंदौर, आकाश धोलपुरे। एक दिन पहले प्रदेश की सियासत में ब्लैकमेलर शब्द को इजाद कर कांग्रेस सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे जीतू पटवारी को प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने आज एक सलाह दे डाली। सिंधिया समर्थक मंत्री ने कहा जीतू पटवारी बहुत जल्दी में है और उनको टीका-टिप्पणी करने से पहले सोचना चाहिए, मर्यादा रखनी चाहिये।

दरअसल, बुधवार को राउ विधायक जीतू पटवारी ने कमलनाथ सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को ब्लैकमेलर बताया था और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भी वादा खिलाफी के आरोप लगाए थे। जिसके बाद गुरुवार सुबह प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा देश में हर व्यक्ति जानता है सिंधिया परिवार क्या है और जीतू पटवारी जो बोलते है वो निराधार है। उनकी बातों का कोई भी सिर है ना पैर है। कांग्रेस धरातल पर चली गई है और इनके पास बोलने के अलावा कुछ भी नही है। जल संसाधन मंत्री ने दिवंगत माधवराव सिंधिया के इतिहास को बताते हुए प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रमुख जीतू पटवारी से कहा कि जब लक्ष्मण सिंह जी गए थे तब भी इन्होंने क्या टिप्पणी की थी। सिलावट ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रदेश की प्रगति, विकास, उन्नति, अन्नदाताओ, युवाओं और माता बहनों के लिए कांग्रेस पार्टी छोड़ी है।

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष पद के मामले पर किये सवाल पर मंत्री सिलावट ने कहा कि ये उनका अंदरुनी मामला है। वहीं एक बार फिर जीतू पटवारी को सलाह दी और कहा कि वो मर्यादा में रहे और उन्होंने सीधे निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोगो को बोलने का शौक है, छपास का शौक है और अति उत्साह में इस प्रकार की भाषा का इस्तेमाल करते है जो कि निंदनीय है और राजनीति में इस तरह की भाषा का उपयोग कभी नही करना चाहिए। उन्होंने कहा जीतू पटवारी मेरे छोटे भाई समान हैं और भविष्य में वो ध्यान रखे कि और इस प्रकार की टीका टिप्पणी करना बंद करें।