MPPSC: रिजल्ट से पहले ही इंदौर में छात्र ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, सिलेक्शन ना होने का था डर

हाल ही में 25 जुलाई को MPPSC द्वारा आयोजित की गई परीक्षा में भाग लिया था। पेपर देने के बाद उसने जैसे ही कमरे पर आकर अपने नंबर काउंट किए और पिछले साल के कटऑफ को देखते हुए अनुमान लगाया कि उसे एक-दो नंबर कम आ रहे हैं।

MPPSC

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) में MPPSC के एक छात्र ने फेल होने के डर से चूहे मारने की दवा खाकर आत्महत्या कर ली, जबकी अभी रिजल्ट जारी नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि हाल ही में छात्र ने 25 जुलाई 2021 को मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित राज्य सेवा परीक्षा में भाग लिया था और घर आकर परीक्षा के नंबर काउंट किए तो पिछले साल के कटऑफ की तुलना में एक-दो नंबर कम निकले, इसके बाद से ही छात्र टेंशन में चल रहा था, ऐसे में उसने निराश होकर आत्महत्या कर ली।

यह भी पढ़े.. 15 अगस्त से पहले कर्मचारियों को मिल सकता है DA का तोहफा, सैलरी में होगा बंपर इजाफा

पूरा मामला इंदौर के भंवरकुआं क्षेत्र के नानक नगर का का है।यहां  बड़वानी (Badwani) निवासी विनोद प्रेम सिंह डावर अपने दोस्तों के सा रहकर MPPSC की तैयारी कर रहा था।हाल ही में 25 जुलाई को MPPSC द्वारा आयोजित की गई परीक्षा में भाग लिया था। पेपर देने के बाद उसने जैसे ही कमरे पर आकर अपने नंबर काउंट किए और पिछले साल के कटऑफ को देखते हुए अनुमान लगाया कि उसे एक-दो नंबर कम आ रहे हैं।

इसी बात का टेंशन लेकर उसने 7 अगस्त  शुक्रवार शाम को चूहे मारने की दवा खा ली। जैसे ही उसकी हालात खराब हुई दोस्त तुरंत अस्पताल लेकर पहुंचे लेकिन तब तक उसकी मौत हो गई। डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। हाल ही में विनोद का ब्रेकअप भी हुआ था, इसको लेकर भी वह हमेशा चिंता में रहता था, हालांकि उसके दोस्त उसके साथ हमेशा रहते थे, ताकी वो कोई गलत कदम ना उठा लें।

यह भी पढ़े.. Bhopal News: आज से विधानसभा का मानसून सत्र, इन क्षेत्रों में लागू रहेगी धारा 144

बता दे कि यह पहला मौका नहीं है।हाल ही में धार जिले के कुक्षी में रहने वाले सौरभ पिता किशोर ने मार्च में MPPSC की परीक्षा देने से पहले ही इंदौर (Indore) आत्महत्या कर ली थी, जबकी सौरभ प्री निकाल चुका था।टेस्ट सिरिज में उसके 2 नम्बर कम आये थे जिसके चलते उसे लग रहा था कि मुख्य परीक्षा (MPPSC Main Exam) पास करने के बाद उसे डीसी से निचली रैंक पर कार्य करने को मिलेगा और इसी को लेकर वह टेंशन में था।