टोसी इंजेक्शन की जगह पानी भर के बेचता था ठग, ठगी से जमा ली घर-गृहस्थी, गर्लफ्रैंड को दिए गिफ्ट

हालांकि पुलिस (police) ने आरोपित (accused) को पकड़ लिया है और उसके खिलाफ रासुका की कार्यवाही करने की बात कही है।

टोसी इंजेक्शन

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। इंदौर (indore) में टोसी इंजेक्शन में पानी भर के बेचने की एक शर्मनाक घटना सामने आ रही है। यहां पर एक व्यक्ति कोविड के इलाज (covid treatment) में उपयोगी टोसिलिजुमैब इंजेक्शन(tocilizumab injection) में पानी भर कर उन्हें ढाई लाख रुपए में बेचते हुए पाया गया है। उसने इस तरह से कई लोगों को ठगा और इतना पैसा कमा लिया कि घर में फ्रिज, कूलर, अलमारी और मोबाइल खरीद कर पूरी गृहस्थी बसा ली। इतना ही नहीं उसने इन पैसों से अपनी गर्लफ्रैंड (girlfriend) को हजारों के कपड़े भी गिफ्ट किये। लॉकडाउन (lockdown) के बाद दोनों का घूमने जाने वाले थे। हालांकि पुलिस (police) ने आरोपित (accused) को पकड़ लिया है और उसके खिलाफ रासुका की कार्यवाही करने की बात कही है।

यह भी पढ़ें… कोरोना संक्रमित आसाराम की तबियत बिगड़ी, आईसीयू में भर्ती

दरअसल, आरोपी सुरेश यादव ने कोविड के उपचार में उपयोगी टोसिलिजुमैब इंजेक्शन में पानी भर कर पांच लोगों से ठगी की। उसने न सिर्फ पानी वाला इंजेक्शन बेचा बल्कि 40,000 के दाम वाले इंजेक्शन में पानी भरकर उसे ढाई लाख रुपए में बेचा। इस तरह से इसने पांच लोगों को बेवकूफ बनाया और उनसे पैसे ऐंठ कर घर-गृहस्थी बसाने में लग गया।
टीआई तहजीब काजी ने बताया कि आरोपी सुरेश सिंह यादव उम्र 29 वर्ष, लक्ष्मणपुरा की गली नम्बर 3, बाणगंगा का निवासी है। इस ठग के बारे में जानकारी तब हुई जब उन पांच लोगों में से एक पीडित ने पुलिस को बताया कि ठग ने उन्हें टोसी कब इंजेक्शन न देकर पानी वाला इंजेक्शन दिया है और इंजेक्शन का दाम ढाई लाख रुपए बता कर ऐठा है। पीड़ित ने बताया कि आरोपी ने उसका मोबाइल नंबर ब्लॉक कर दिया था।

यह भी पढे़ं… इंदौर ट्रांसपोर्ट कंपनी ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र, ट्रांसपोर्टरों के लिए की आर्थिक पैकेज की मांग

मामले की जानकारी लगते ही पुलिस ने ठग को पकड़ने की योजना बनाई। इसके तहत एसआई प्रियंका शर्मा ने इंदौर स्मार्ट सिटी नाम के सोशल मीडिया ग्रुप में टोसी इंजेक्शन की डिमांड के बारे में मैसेज डाला। जिसके बाद आरोपी ने उनसे चैट करते हुए कहा कि उसके पास टोसी का इंजेक्शन है। वैसे तो ये 40,000 का है लेकिन अभी ब्लैक में मिलने के कारण इसकी कीमत ढाई लाख है। सभी बातों के बाद सौदा तय हो गया था। योजना बनाते हुए थाने के जवान भरत को ड्राइवर बनाया गया और एसआई प्रियंका ग्राहक बनकर उस ठग के पास गयीं और पैसे देने के बहाने उसे गिरफ्तार कर लिया।