World Blood Donor Day : देश के पहले ब्लड कॉल सेंटर में हुआ कर्मवीरों का सम्मान और आज भी पहुंचाई गई मदद

विश्वरक्तदाता दिवस के मौके पर ब्लड कॉल सेंटर पर हर रोज की ही तरह रक्त के जरुरतमंदो के फोन घण्टियां घनघनाती रही और हर जरूरतमंदो तक मदद पहुंचाई भी गई।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर (Indore) के एमओजी लाइन में संचालित किए जा रहे है देश के पहले ब्लड कॉल सेंटर में जहां एक दिन पहले 51 कर्मवीर रक्तदाताओं का स्वागत व सम्मान किया गया। तो दूसरी ओर विश्वरक्तदाता दिवस (World Blood Donor Day) के मौके पर भी रक्त पहुंचाने के लिए ब्लड कॉल सेंटर के संचालक और महिला कर्मचारी तैयार दिखे। सोमवार को विश्वरक्तदाता दिवस के मौके पर ब्लड कॉल सेंटर पर हर रोज की ही तरह रक्त के जरुरतमंदो के फोन घण्टियां घनघनाती रही और हर जरूरतमंदो तक मदद पहुंचाई भी गई।

यह भी पढ़ें…राजस्थान के शूटर के कुबुलनामे के बाद इंदौर में हथियारों का जखीरा बरामद, 2 गिरफ्तार

दरअसल, 2009 से संचालित किए जा रहे ब्लड कॉल सेंटर को दामोदर युवा संगठन के जरिये अकेले संचालक अशोक नायक चलाते थे। उस वक्त वो मोबाइल पर लोगो से बात कर मदद पहुंचाते थे। लेकिन अब जब रेडक्रॉस सोसायटी उनके प्रकल्प से जुड़ी तो इसका स्वरूप भी बढ़ गया और अब यहां एक ब्लड कॉल सेंटर के जरिये रक्त के जरुतमंदो और रक्तदाताओं को आपस मे मिलाने का काम किया जाता है।

एक दिन पहले ही देश के पहले निःशुल्क ब्लड कॉल सेंटर द्वारा विश्व रक्तदाता दिवस पर 51 कर्मवीर प्लाज्मा दाताओं का सम्मान, मंत्री उषा ठाकुर के आतिथ्य में किया। दामोदर युवा संगठन रेडक्रॉस ने इस वर्ष उन वीरों का सम्मान किया, जिन्होंने कोरोना काल जैसे आपदा के समय में प्लाज्मा दान करके कई जिंदगियों को बचाया।

यह भी पढ़ें…LIC Policy2021: हर दिन 200 का निवेश कर पा सकते है 17 लाख, यहां देखें पूरी डिटेल्स

बता दें कि संस्था 12 वर्षों से इंदौर में ब्लड कॉल सेंटर संचालित कर रही है। इससे देशभर में चार लाख से भी ज्यादा रक्तदाता जुड़े हैं। कोरोनाकाल के इस दौर में 450 से भी ज्यादा लोग ने प्लाज्मा दान कर एक कीर्तिमान स्थापित किया है। वही ब्लड की अब तक 3 लाख से ज्यादा यूनिट्स ये लोगो को उपलब्ध करा चुके है। प्रशासन द्वारा रेडक्रॉस के सहयोग से यह सेंटर संचालित किया जा रहा है। वहीं ब्लड कॉल सेंटर के संचालक अशोक नायक ने विश्व रक्तदाता दिवस की सभी को बधाई देते हुए लोगो से मांग की है कि लोग अधिक संख्या में आगे आये। क्योंकि वक्त के साथ-साथ रक्त की जरुरत भी बढ़ रही है। लिहाजा, लोगो की जान बचाने के लिए रक्त का महादान जरूर करे।