कांग्रेस नेता ने PM को लिखा पत्र, मोर पालने की मांगी अनुमति, दिया Wildlife Protection Act का हवाला

जबलपुर, संदीप कुमार

कांग्रेस नगर अध्यक्ष दिनेश यादव ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर राष्ट्रीय पक्षी मोर को पालने की अनुमति मांगी है. पीएम आवास में राष्ट्रीय पक्षी मोर को दाना खिलाते समाचार देखने के बाद यह पत्र लिखा. पत्र में (WildLifeProtectionAct) का हवाला भी दिया. मोर को पालने पर 7 साल तक की सज़ा के प्रावधान की जिक्र भी की. खुद को भी प्रकृति प्रेमी बताकर यादव ने पीएम से मोर पालने की अनुमति मांगी।

शहर कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश यादव ने मीडिया में खबर का हवाला देते हुए पत्र लिखकर कहा है कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने निवास वाले बंगले में आपने राष्ट्रीय पक्षी मोर को पाले हुए हैं । इस प्रकार की प्रधानमंत्री आवास की खबरें मोदी जी के लिए प्रचार का साधन हो सकती है पर ओरो के लिए कानून तोड़ने का रास्ता बन जायेगा। जब प्रधानमंत्री पाल सकते हैं तो सब क्यो नही ? जबकि राष्ट्रीय पक्षी मोर पालना अपराध की श्रेणी में आता है । गौरतलब है कि पूर्व में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बंगले में मोर के जोड़े होना पाया गया। उस पर भी कार्रवाई हुई थी। तो फिर प्रधानमंत्री के आवास पर राष्ट्रीय पक्षी कैसे हैं इसकी जांच होना चाहिए।

नगर कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश यादव ने मोर पालने की अनुमति मांग के साथ राजनीतिक कटाक्ष करते हुए प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मेल किया है कि मीडिया की खबर से जानकारी प्राप्त हुई है कि आपके निवास स्थान प्रधानमंत्री बंगले में राष्ट्रीय मोर पक्षी का जोड़ा पला हुआ है। पक्षी के प्रति आपका लगाओ प्राकृतिक प्रेम के भाव को प्रदर्शित करता है। जिसकी मैं सराहना भी करता हूं। पर मेरी जानकारी में यह है कि मोर भारत का राष्ट्रीय पक्षी है जिसे कोई भी नागरिक व्यक्तिगत नहीं पाल सकता। यह पक्षी वाइल्डलाइफ प्रोटक्शन एक्ट 1972 के तहत शेड्यूल 1 में कानून है कि जिसके पास यह पक्षी होता है उसके खिलाफ 7 वर्ष की सजा या अर्थदंड की कार्यवाही होती है । इस पक्षी को पालना अपराध की श्रेणी में आता है। जिस वजह से मैंने इसे अभी तक नहीं पाला। मुझे विश्वास है कि इसके पालने की अनुमति आप ने ले रखी होगी। दिनेश यादव ने कहा है कि कृपया इसकी जानकारी मुझे भी उपलब्ध कराएं ताकि मैं भी मोर पाल सकू। मुझे भी इस पक्षी से बहुत लगाव है मेरे जैसे अनेक लोग मोर पक्षी को पालना चाहते हैं। उन्हें भी इसे पालने का अवसर मिल जाएगा। आपसे आग्रह है कि राष्ट्रीय पक्षी मोर पालने की अनुमति प्रदान करें।

कांग्रेस नेता ने PM को लिखा पत्र, मोर पालने की मांगी अनुमति, दिया Wildlife Protection Act का हवाला