जबलपुर, संदीप कुमार। कोरोना काल मे दिव्यांगों को किसी तरह की परेशानी न हो, अगर उन्हें खाने पीने की जरूरत हो तो जिले के कलेक्टर इस पर ध्यान देते हुए व्यवस्था करवाएं। ये निर्देश दिए है नि:शक्तजन कल्याण आयुक्त संदीप रजक ने। आयुक्त ने प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों को दिव्यांगजनों के स्वास्थ्य सुरक्षा और संरक्षण के लिए केंद्र सरकार द्वारा मार्च 2020 में जारी दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित करने के लिये पत्र लिखा है। उन्होने अपने पत्र के माध्यम से कहा है कि लॉकडाउन के दौरान दिव्यांगजनों को आवश्यक भोजन, पानी, दवा एवं चिकित्सा सुविधा निरंतर मिलती रहे इसका प्रयास सभी कलेक्टर करेंगे।

राहुल गांधी के बाद कांग्रेस सांसद शशि थरुर कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

निःशक्त जन आयुक्त संदीप रजक ने अपील की है कि गैर सरकारी संगठन और दिव्यांगजनों से संबंधित अन्य संस्थाएँ भी दिव्यांगजनों को दैनिक जीवन को आसानी से जीने और अत्यावश्यक वस्तुएँ मुहैया कराने में सहयोग करें। दिव्यांगजनों को सहयोगी सेवाओं का प्रबंधन सुचारू रूप से सुनिश्चित करने के लिए गैर सरकारी संगठनों, दिव्यांगजन, संघों, देखभालकर्ताओं, संगठनों के साथ समन्वय करें। कोविड-19 के कारण दिव्यांगों से जुड़े संगठनों एवं देखभालकर्ताओं के लिए आवश्यकता अनुसार आने-जाने की सुविधा के लिए उचित कार्यवाही करने का भी आयुक्त ने अनुरोध किया, जिससे दिव्यांगजनों को आवश्यक सहायता प्राप्त करने में देरी न हो। साथ ही इस कार्य से जुड़े संबंधित समस्त अधिकारियों को भी इस संबंध में निदेर्शित करने को कहा गया है।

आयुक्त रजक ने कहा कि कोविड-19 दिव्यांगजन रोगियों को अस्पतालों और स्वास्थ्य देखभालकर्ताओं को संस्थानों में आवश्यक समुचित सुविधाएँ प्राप्त हो, कोविड-19 पूरी तरह जन-जीवन को प्रभावित कर रहा है। लेकिन शारीरिक संवेदी और ज्ञान संबंधी सीमाओं के कारण दिव्यांगजनों का इस बीमारी की चपेट में आने की संभावना अधिक होती है। अतः शासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप जिले में आवश्यक कार्यवाही की जाये तथा दिव्यांगजनों की स्थिति से आयुक्त नि:शक्तजन कार्यालय को समय-समय पर अवगत कराएं।