कुख्यात बदमाश बबलू पंडा की हत्या, आरोपियों ने पहले मारी गोली फिर रेता गला

जबलपुर,संदीप कुमार। पत्नी की हत्या सहित कई जघन्य अपराधों में शामिल हिस्ट्रीशीटर बबलू पंडा की गुरुवार की रात मंडला जिले के उदयपुर में 3 लोगों ने मिलकर हत्या कर दी आरोपियों ने पहले हिस्ट्रीशीटर बबलू पंडा को गोली मारी और उसके बाद धारदार हथियार से उसका गला काट दिया। घटना के बाद आरोपी फरार हो गए, बताया जा रहा है कि बबलू पंडा की पैसे के लेनदेन को लेकर तीन लोगों से विवाद हुआ और उसके बाद तीनों आरोपियों ने मिलकर पहले बबलू पंडा के सीने में गोली मारी और उसके बाद धारदार हथियार से उसका गला काट कर हत्या कर दी,घटना के बाद समूचे इलाके में हड़कंप मच गया वहीं बीजाडांडी थाना प्रभारी सहित भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा, इधर हत्या की वारदात को अंजाम देने के बाद तीन आरोपी मौके से फरार हो गए हैं, मौके पर एक आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ा है जिसे हाथ में गंभीर चोट आई उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है, वही 3 आरोपी फरार है, जिनकी पुलिस तलाश कर रही है। वही यह कहा जा रहा है की अवैध संबंध और पैसों के लेन देन को लेकर बबलू की हत्या की गई है, इसे गैंगवार भी बताया जा रहा है। मृतक कुख्यात बदमाश था, जबलपुर सहित आसपास के जिलों में मोस्ट वांटेड बबलू पंडा एक कुख्यात अपराधी था उसके ऊपर  पत्नी सहित अपने दोस्त की हत्या करने एवं लूटपाट फिरौती की मांग सहित और कई जघन्य अपराध दर्ज थे, बबलू पंडा के आतंक को लेकर जबलपुर पुलिस ने भी उसके ऊपर 30000 रु का इनाम घोषित किया था।

24 साल के युवक ने की 61 साल की प्रेमिका से सगाई, 17 बच्चों की दादी है होने वाली दुल्हन

बीजाडांडी थाना प्रभारी राजेश बर्मन ने बताया कि उदयपुर स्थित एक ढाबा में हत्या की खबर लगी,मौके पर जाकर देखा गया तो मृतक जबलपुर जिले का कुख्यात बदमाश बबलू पंडा निकला,बताया जा रहा है कि मृतक बबलू पंडा और उसके साथियों के बीच पैसे के लेनदेन को लेकर विवाद हुआ था जिसके बाद पहले बबलू पंडा को गोली मारी और जब वह नीचे गिर गया तो फिर धारदार हथियार से गले पर कई वार किए जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। गौरतलब है कि कुख्यात बदमाश बबलू पंडा ने गोराबाजार क्षेत्र में 16 मार्च 2015 को अपनी पत्नी मंजू सोधे उम्र 40 वर्ष की गोली मारकर हत्या कर दी थी। पत्नी की हत्या करके फरार हुए बबलू पंडा ने 4 मई 2015 को अपने साथी संजय रजक का बरेला क्षेत्र से अपहरण किया और गोली मारकर हत्या कर दी। हत्या के बाद संजय की लाश को उमरिया कटनी के जंगल में फेंक दिया था।