प्रदेश के पूर्व मंत्री की बेटी का सुसाइड मामला, दोनो परिवारों के बीच जमकर विवाद, दामाद पर प्रताड़ित करने का आरोप

जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट। जबलपुर में मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री और बीजेपी नेता मोती कश्यप की बेटी द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने के मामले में परिजनों ने दामाद पर ही प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि जबलपुर के रामनगर क्षेत्र में रहने वाली 42 वर्षीय मृतका तृप्ति पटले ने प्रेम विवाह किया था। तृप्ति पूर्व मंत्री मोती कश्यप की सबसे छोटी बेटी है और एक कॉलेज में अस्सिटेंट प्रोफेसर है। तृप्ति के पिता मोती कश्यप का आरोप है कि ससुराल वालों की प्रताड़ना से तंग आकर तृप्ति ने ऐसा आत्मघाती कदम उठाया है। शुक्रवार को तृप्ति की मौत के बाद घटना को लेकर बीजेपी नेता और तृप्ति के ससुराल पक्ष के बीच जमकर विवाद भी हुआ। वही दोनो ही परिवारजनो के बीच हाथापाई की नौबत तक आ गई जिसे मौके पर मौजूद पुलिस कर्मियों ने रोका।

यह भी पढ़े.. Gwalior News : जावेद हबीब के खिलाफ गुस्सा, पोस्टर फाड़े, सैलून में डाला ताला

पुलिस ने अनुसार तृप्ति पटले जो कि असिस्टेंट प्रोफेसर थीं, शाम करीब 6 बजे कॉलेज से वापस घर लौटी। इसी दौरान उन्होंने कमरे में फांसी लगा ली। नजर पड़ते पति महेश पटले ने उन्हें फंदे से उतारा और समीप ही स्थित निजी अस्पताल ले गए, जहां परीक्षण के उपरांत चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।  घटना की जानकारी लगते ही दोनों पक्षों के लोग बड़ी संख्या में अधारताल स्थित निजी अस्पताल के बाहर एकत्रित हो गए।आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया। कुछ युवकों ने प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए महेश को पकड़ लिया। इस दौरान झूमा-झपटी व हाथापाई की नौबत आ गई। हालांकि दोनों पक्षों के लोग पुलिस की समझाइश के बाद शांत हो गए। पुलिस ने मामले को जांच में लिया है।

वही तृप्ति के ससुरालवालों का कहना है कि तृप्ति ने 2017 में अपने पहले पति को तलाक देकर महेश से शादी की थी, तृप्ति की कोई संतान नही थी, उसकी उदासी की वजह यही थी और इसी के चलते उसने आत्महत्या जैसा कदम उठाया। महेश माइनिग फील्ड में काम करता है।