नेता प्रतिपक्ष के चयन में आदिवासी कार्ड चलाने के मूड में कमल नाथ , यह नेता है दौड़ में सबसे आगे

कमल नाथ कह चुके है कि वो 2023 तक मध्य प्रदेश में सक्रिय राजनीति करेंगे। कमल नाथ पार्टी संगठन को और मजबूत करना चाहते है। ऐसे पीसीसी चीफ के पद पर कमल नाथ बने रहना चाहते है और नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी किसी और को सौंपने की तैयारी कर रहें है। जिसके बाद अटकलें तेज हो गई है कि शीतकालीन सत्र से पहले कांग्रेस अपने नए नेता प्रतिपक्ष का ऐलान कर देगी।

MP Politics

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आगामी 28 दिसंबर से 3 जनवरी तक मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में विधानसभा (Vidhansabha) का शीतकालीन सत्र होने वाला है। लेकिन अभी तक नए नेता प्रतिपक्ष (Leader Opposition) का चयन नहीं हो पाया है। दरअसल वर्तमान में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ (Former Chief Minister Kamal Nath) पीसीसी चीफ और नेता प्रतिपक्ष (PCC Chief And Leader Opposition) दोनों की जिम्मेदारी संभाल रहें है। लेकिन अब कमल नाथ दोनों पदों में से एक पद छोड़ने के मूड में है।

कमल नाथ कह चुके है कि वो 2023 तक मध्य प्रदेश में सक्रिय राजनीति करेंगे। कमल नाथ पार्टी संगठन को और मजबूत करना चाहते है। ऐसे पीसीसी चीफ के पद पर कमल नाथ बने रहना चाहते है और नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी किसी और को सौंपने की तैयारी कर रहें है। जिसके बाद अटकलें तेज हो गई है कि शीतकालीन सत्र से पहले कांग्रेस अपने नए नेता प्रतिपक्ष का ऐलान कर देगी।

दरअसल वर्तमान में मध्यप्रदेश कांग्रेस दो बड़े चेहरे कमल नाथ और दिग्विजय सिंह के साथ खड़ी है। लेकिन दिग्विजय सिंह ने प्रदेश की राजनीति से दूरियां बना कर दिल्ली कुंच कर चुके है और कमल नाथ अपने पास सिर्फ पार्टी अध्यक्ष का पद रखना चाहते है। ऐसे में आप नेता प्रतिपक्ष कौन होगा इसको लेकर प्रदेश के सियासी गलियारों में राजनीति गरमाई हुई है। पार्टी में नेता प्रतिपक्ष के दावेदारों की कमी नहीं दिख रही है। करीब आधा दर्जन के करीब नेता इस रेस में शामिल है। पूर्व मंत्री जीतू पटवारी, डॉ. गोविंद सिंह, उमंग सिंधर, बाल बच्चन, सज्जन सिंह वर्मा, विजयलक्ष्मी साधौ और बृजेन्द्र सिंह इस रेस में शामिल है।

2018 में विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनाने में आदिवासी वर्ग का काफी अहम योगदान रहा था। ऐसे में सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नेता प्रतिपक्ष के चयन में कमल नाथ आदिवासी कार्ड खेल सकते है। अगर ऐसा होता है तो पूर्व मंत्री बाल बच्चन इस रेस में बाकियों से काफी आगे निकल सकते है। बाला बच्चन कमल नाथ के सबसे करीबी और विश्वास पत्रों में से एक है। पार्टी सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस पद के लिए पार्टी हाईकमान और कमल नाथ के बीच सहमति बनती दिखाई दे रही है। ऐसे में जीतू पटवारी, डॉ. गोविंद सिंह, उमंग सिंधर, सज्जन सिंह वर्मा, विजयलक्ष्मी साधौ और बृजेन्द्र सिंह इस रेस में पिछते हुए नज़र आ रहें है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here