खंडवा में वन विभाग की बड़ी कार्रवाई, लाखों रुपए की सलाई गोंद के साथ तीन आरोपी गिरफ्तार

वन विभाग में बड़ी कार्रवाई करते हुए 1 लाख रुपए की कीमत की सलाई गोंद जब्त की है। साथ ही तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

खंडवा, सुशील विधानी। खंडवा (Khandwa) में वन विभाग (Forest department) को बड़ी सफलता हाथ लगी है। वन विभाग में बड़ी कार्रवाई करते हुए 1 लाख रुपए की कीमत की सलाई गोंद जब्त की है। साथ ही तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें…छिंदवाड़ा : एसडीएम की कार्रवाई, अव्यवस्थाओं के चलते क्लीनिक किया सील

वन विभाग को बुधवार को मुखबिर द्वारा सूचना दी गई थी। कि एक सफेद रंग की पिकअप वाहन अवैध गोंद लेकर रोशनी से मुंदी होती हुए इंदौर (Indore) की ओर जा रही है। सूचना पर मुंदी परिक्षेत्र अधिकारी अरविंद चौहान के नेतृत्व में टीम बनाकर 1 स्टाफ को अलग-अलग मार्गों पर दबिश पर बैठाया। सुबह लगभग 05:30 बजे रेलवे ओवरब्रिज गुराडिया की ओर से सफेद पिकअप वाहन आता हुआ दिखाई दिया। जिसे नाकाबंदी कर रोका गया। और चेक करने पर प्याज की बोरियों के नीचे सिलाई एवं धावड़ा गोंद भरा हुआ पाया गया। जिसके बाद वाहन चालक से पूछताछ की गई। पूछताछ में उसने अपना नाम दिनेश खिड़कियां निवासी बताया गया। उसने बताया कि अब्दुल अजीज उर्फ मौलाना एवं रफीक मंसूरी के द्वारा गोंद को रोशनी से भरवा कर इंदौर ले जाया जा रहा था। साथ ही वह दोनों भी मोटरसाइकिल से रेकी करते हुए आगे-आगे चल रहे थे। जिसके बाद वाहन चालक की सूचना पर मोटरसाइकिल का पीछा किया गया तथा मुंदी में वन स्टॉप द्वारा घेराबंदी कर दोनों को धर दबोचा। वहीं पिकअप वाहन एवं मोटरसाइकिल को अवैध गोंद के साथ जब्त किया गया। और तीनों आरोपियों के खिलाफ भारतीय वन अधिनियम 1927 एवं जैव विविधता अधिनियम 2002 के अंतर्गत प्रकरण क्रमांक 447/04 जारी किया गया। जब्त गोंद की मात्रा 5 क्विंटल बताई जा रही है। जिसका मूल्य लगभग एक लाख रुपए आंका गया है।

आरोपियों के ऊपर गौ तस्करी के प्रकरण भी दर्ज
ज्ञात हो की रफीक मंसूरी एवं अब्दुल अजीज उर्फ मौलाना नामी गौ तस्कर है। जो अलग-अलग प्रकरणों में फरार चल रहे थे। वन परीक्षेत्र मंदिर के स्टाफ द्वारा विगत 3 माह में अवैध गोंद तस्करों पर लगाम लगाने हेतु कई कार्रवाई की गई हैं। जिसमें रफीक मंसूरी एवं अजीज मौलाना फरार चल रहे थे। जिन्हें पकड़ने में वन विभाग को सफलता मिली है।

यह भी पढ़ें…Rajgarh News : फिर हावी अंधविश्वास, “परियों का पानी” पीने उमड़ी सैंकड़ों की भीड़