अब घर बैठे बना सकेंगे लर्निंग License, जानें कैसे करें ऑनलाइन आवेदन

परिवहन विभाग द्वारा लाइसेंस (License) बनाने के लिए ऑनलाइन (Online) आवेदन की प्रक्रिया चालू की गई है। इसके लिए प्रोजेक्ट के रूप में अभियान चलाया जाएगा, जिसके लिए खरगोन एवं सतना जिले का चयन किया गया हैं। प्रोजेक्ट पूरा होने पर प्रदेश में यह अभियान चलाया जाएगा।

License suspended

खरगोन, बाबुलाल सारंग। अब लाइसेंस (License)  बनाने के लिए दलालो के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे । RTO कार्यालय के बाहर लाइसेंस (License) बनाने के लिए दलाल अपना डेरा जमाए बेठे रहते हैं। ऐसे में किसी को भी लाइसेंस बनवाने के लिए दलाल से मिलना पड़ता है।

जहां कम शुल्क में लाइसेंस (License) बनाने की प्रक्रिया होती है वहां दलाल शासन शुल्क का कई गुना रकम अपनी मजदूरी के रूप में लेता है। लेकिन, अब इन सब परेशानी से बचाने के लिए परिवहन विभाग द्वारा लाइसेंस बनाने के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया चालू की गई है।

ये भी पढे़- Morena : संत समाज ने की ग्राम पंचायतों में शराब ठेकों पर रोक लगाने की मांग, सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

जिससे अब घर बैठे लर्निंग लाइसेंस बना सकते है। इससे समय एवं धन दोनो की बचत होगी और अब हम सब लर्निंग लाइसेंस बनाने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर घर बैठे लाइसेंस प्राप्त कर सकते है। परिवहन विभाग द्वारा प्रदेश में 1 अप्रैल से लर्निंग लाइसेंस की सेवा ऑनलाइन कर दी गईं है। जिसे वर्तमान में जिला खरगोन एवम जिला सतना में प्रोजेक्ट के रूप में चलाया जा रहा है। लाइसेंस की सेवा को आधार से जोड़ दिया गया है।

लर्निंग लाइसेंस बनाने की प्रकिया-

  • आवेदक को विभाग की वेबसाइट पर जाना होगा।
  • ऑनलाइन सर्विस मेन्यू के अंतर्गत ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License)  सर्विस का चयन करना होगा।
  • इसमें सारथी सर्विस पोर्टल के होम पेज पर जाना होगा।
  • फिर लर्निंग लाइसेंस का चयन करना होगा।
  • आवेदन के लिए दो ऑप्शन आएंगे एप्लिकेंट होल्ड आधार व एप्लिकेंट डज नॉट होल्ड आधार। घर बेठे लाइसेंस प्राप्त करने के लिए एप्लिकेंट होल्ड आधार का चयन करना होगा।
  • आधार नम्बर दर्ज करने के बाद मोबाइल पर ओटीपी आएगा । ओटीपी डालने के बाद जानकारी भरनी होगी।
  • टेस्ट के लिए SMS से पासवर्ड (Password) प्राप्त होगा । 60 प्रतिशत प्रश्नों के उत्तर देने के बाद लर्निंग लाइसेंस जनरेट हो जाएगा।

परिवहन विभाग द्वारा मध्यप्रदेश में खरगोन एवं सतना जिले का चयन किया गया है, जिसमे प्रोजेक्ट के रूप में अभियान चलाया जाएगा। यह प्रोजेक्ट पूरा होने पर मध्यप्रदेश में भी यह अभियान चलाया जाएगा।