जीवित रहते तो नंदकुमार चौहान कैसे मनाते अपना जन्मदिन, वीडियो में सुनिये अंतिम उद्बोधन

बड़वाह, बाबूलाल सारंग। निमाड़ के खिवैया, नंदू भैया अब हम सबके बीच में नहीं रहे। मंगलवार की सुबह गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में नंदकुमार सिंह चौहान (Nandkumar Singh Chauhan) ने अंतिम सांस ली। वे पिछले काफी लंबे समय से कोरोना (corona) संक्रमित थे और भोपाल में हालत बिगड़ने के बाद उन्हें मेदांता दिल्ली एअरलिफ्ट किया गया था। मगर जी तोड़ प्रयाह के बाद भी डॉक्टर उनके जीवन को बचा न सकें।

अपने सरल सौम्य व्यवहार और चिर परिचित मुस्कान के कारण हर दिल अजीज रहे नंदू भैया के अंतिम सार्वजनिक उद्बोधन की एक क्लिप mpbreaking news को मिली है। बड़वाह में 10 जनवरी 2021 को दिए गए अपने अंतिम सार्वजनिक उद्बोधन में नंदू भैया परम पूज्य संत नर्मदा नंद का अभिनंदन करते हुए नजर आ रहे हैं। दरअसल संत नर्मदा नंद ने 12 ज्योतिर्लिंगों की पदयात्रा की थी। नंदू भैया ने उसी पदयात्रा की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए कहा था कि नर्मदा की असीम कृपा से ही कड़ी धूप, बरसात और ठिठुरती ठंड के बावजूद नर्मदा नंद जी ने अपना यह प्रण पूरा किया। नर्मदा नंद जी का दर्शन करने मात्र से 12 ज्योतिर्लिंगों का दर्शन पूरा हो जाएगा। नंदकुमार चौहान ने इस अवसर पर यह भी कहा था कि वह अपना जन्मदिन (birthday) हर बार एकांत में मनाते हैं। किसी धार्मिक स्थान पर या एकांत में चुपचाप चले जाते हैं और चिंतन मनन करके प्रभु के चरणों में वे अपने जन्मदिन पर ध्यान योग करते हैं। लेकिन नर्मदा नंद जी के दर्शन करने के बाद उन्होंने ऐलान कर दिया था कि वे अब अपना जन्मदिन ऐसे लोगों के बीच में मनाएंगे जहां जन सेवा कर सकें, जहां गौ सेवा कर सकें और सार्वजनिक कल्याण के काम कर सकें। हालांकि नंदू भैया की इच्छा पूरी नहीं हो सकी और सितंबर 2021 में जन्मदिन आने से पहले ही वह 2 मार्च 2021 को इस दुनिया को अलविदा कह गए। नंदू भैया का पार्थिव शरीर एयर एंबुलेंस के माध्यम से भोपाल लाया गया जहां अंतिम दर्शन के लिए उन्हें भाजपा कार्यालय में रखा गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष वी.डी.शर्मा और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने उनके पार्थिव शरीर पर श्रद्धा सुमन चढ़ाये। नंदकुमार चौहान का अंतिम संस्कार बुधवार को उनके गृह गांव मे जाएगा।