ऑनलाइन फ्री फायर गेम की लत: आईडी के लिए भांजे और बेटे ने घर से चोरी किये 75 हजार

खरगोन,डेस्क रिपोर्ट। फ्री फायर गेम के जाल में फिर दो बच्चों के फंसने के बाद चोरी करने का मामला सामने आया है। घटना खरगोन से जुड़ी है। जहां ऑनलाइन फ्री फायर गेम खेलने के बाद बच्चो ने चोरी करने का प्रयास किया। फ्री फायर गेमिंग की लत के चलते उन्होंने ये कदम उठाया। समय रहते इस मामले की जानकारी पिता को लगी तो मामलें का खुलासा हुआ। लेकिन तब तक भी बच्चें पिता के गल्ले से 75 हजार पार कर चुके थे।  पिता के मुताबिक उनके दस साल के बेटे और भांजे को दो किशोरों ने लत लगवाई फिर आईडी बनवाने के लिए पैसों की मांग करने लगे। फिर बच्चों को पैसे चोरी करने की सलाह दी। पिता ने किशोरों की पुलिस में शिकायत की बात कही तो आरोपियों ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी। गेम आईडी बनाने के लिए 18 हजार रुपए मांगे।

Bhind News : कुएं में फेंकी लाखों की सरकारी दवा, कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश

फ्री गेम में फंसे एक बच्चे के पिता खरगोन के सनावद के टउड़ीपुरा के फल व्यापारी है, पुलिस को दी जानकारी में उन्होंने बताया कि उनके बेटे और भांजे से दो नाबालिग लड़को ने दोस्ती कर ली। ये नाबालिग 16 और 17 साल के हैं और इन्होंने ही बच्चों को फ्री फायर खेलना सिखाया फिर आईडी बनाने के लिए 18 हजार रुपए मांगने लगे। बेटे और भांजे ने व्यापारी के लॉकर से 20 हजार रुपए चुराकर दे दिए। आरोपी लड़कों ने रिचार्ज के नाम पर 5 हजार रुपए और मांगे। जब बच्चों ने बताया कि उनके पास पैसे नहीं है तो इस पर दोनों आरोपी ने पिता की दुकान से पैसे चोरी करने की बात कही।पिता ने बताया कि बाद में बेटे और भांजे के साथ मारपीट की और 20 हजार रुपए और मांगे। बेटे ने चोरी कर 20 हजार रुपए दे दिए। कई बार उन्होंने बच्चों को चाकू से डराया। मेरे गले से सोने की चेन निकालकर लाने के लिए भी कहा। इस तरह उन्होंने करीब 75 हजार रुपए की चोरी मेरे बच्चों से करवाई। बाद में किशोरों ने बनाया पैसे लाने का दबाव बनाया और फिर 22 अगस्त की रात को जब फल व्यापारी का बेटा लॉकर से पैसे निकाल रहा था। उस समय पिता ने उसे पकड़ लिया, पूछने पर बच्चों ने बताया की दो किशोर उन्हें पैसे लाने के लिए धमका रहे थे। पुलिस ने उनकी शिकायत पर केस दर्ज कर लिया है। पिता ने किशोरों पर ब्लैकमेलिंग, चोरी कराने और धमकाने जैसे आरोप लगाएं हैं। फिलहाल पुलिस इस मामले में जांच कर रही है।