महिला ने ड्यूटी डॉक्टर पर लगाएं मारपीट के आरोप, थाने में दिया आवेदन

सिविल अस्पताल में कोविड-19 की जांच कराने पहुंचे दंपत्ति के साथ अभद्र व्यवहार करने का मामला सामने आया है।

बड़वाह, बाबूलाल सारंग। नगर के सिविल अस्पताल में सोमवार को कोविड-19 की जांच कराने पहुंचे दंपत्ति के साथ अभद्र व्यवहार करने का मामला सामने आया है। जिसमें पीडि़त दंपत्ति ने ड्यूटी के दौरान डॉ. अनुज कारखुर पर बत्तमीजी के साथ मारपीट करने तक के आरोप लगाए। वहीं थाने जाकर पुलिस को लिखित आवेदन दिया। पीड़ित कोठारी ने बताया कि महिला 23 जनवरी को कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी। करीब 14 दिन तक क्वॉरेंटाइन रही।

इसके बाद दूसरी बार जांच कराने अपने पति नितिन के साथ स्थानीय सिविल अस्पताल गई। जहां कोई भी नहीं मिला जो हमारी जांच कर सके। ऐसे में हमारी चर्चा सीबीएमओ डॉ. दिनेश ठाकुर से हुई। फिर उन्होंने कहा अस्पताल जाईए। ड्यूटी पदस्थ डॉक्टर से बात करता हूं। जब हम पुन: अस्पताल गए तो वहां पदस्थ डॉ.अनुज कारखुर ने ऊंची आवाज में बात करते हुए पर्ची फेंक दी। बदसलूकी व मारपीट तक उतारू हो गए।

Read More:MP: विस बजट सत्र पर कोरोना की नजर, स्पीकर ने बुलाई कार्य मंत्रणा समिति की बैठक

बीच-बचाव करने के दौरान मेरे साथ भी मारपीट की। हांलाकि डॉ.अनुज कारखुर ने भी थाने में आवेदन दिया है। वहीं मामले में डॉ.अनुज कारखुर ने कहा कि अस्पताल में जो भी मरीज आता है उसे देखना हमारा काम है। मरीज को बिना इलाज किए वापस नहीं भेज सकते हैं। डॉ.अनुज कारखुर ने कहा कि मैंने किसी के साथ कोई बत्तमीजी नहीं की। विवाद के दौरान पूरा स्टॉफ मौजूद था।