Cabinet Meeting 2024 : मोहन कैबिनेट की अहम बैठक आज, इन प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर

आज मंगलवार को होने वाली मोहन कैबिनेट बैठक में लेखानुदान के प्रारूप समेत कई अहम प्रस्तावों को रखा जाएगा, जिनपर चर्चा होने के बाद मुहर लगाई जा सकती है। लोकसभा चुनाव और बजट सत्र से पहले इस बैठक को बेहद अहम माना जा रहा है।

Pooja Khodani
Published on -
Mohan Yadav

Mohan Cabinet Meeting Today 2024 : मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव की अध्यक्षता में आज मंगलवार को राजधानी भोपाल में 11 बजे मंत्रालय में कैबिनेट बुलाई गई है।इस बैठक में लेखानुदान के प्रारूप समेत कई अहम प्रस्तावों पर मंथन किया जाएगा। इस बैठक में सभी कैबिनेट और राज्य मंत्रियों को शामिल होने के लिए कहा गया है। आगामी लोकसभा चुनाव और बजट सत्र के लिहाज से यह बैठक बेहद अहम मानी जा रही है। बैठक में किसानों के लोन लेकर भी कोई बड़ा फैसला हो सकता है।

लेखानुदान के प्रारूप होगी चर्चा

  • आज कैबिनेट बैठक में वित्त वर्ष 2024-25 के लेखानुदान के प्रारुप पर चर्चा होगी और फिर मंजूरी दी जाएगी। कैबिनेट की मंजूरी के बाद इस लेखानुदान को 12 फरवरी से शुरू हो रहे विधानसभा के बजट सत्र में पेश किया जाएगा, हालांकि इसमें कोई नई घोषणा नहीं होगी।
  • यह लेखानुदान चार माह अप्रैल से जुलाई के लिए होगा। खबर है कि लेखानुदान के साथ ही वर्ष 2024-25 के लिए द्वितीय अनुपूरक बजट भी मंजूरी के लिए लाया जा सकता है। लोकसभा चुनाव के चलते इस साल लेखानुदान लाया जाएगा। सरकार पूर्ण बजट लोकसभा चुनाव के बाद पेश करेगी।

इन प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर

  • आज मंगलवार को कैबिनेट बैठक में मध्य प्रदेश विश्वविद्यालय संशोधन अधिनियम का प्रस्ताव आएगा।
  • मध्यप्रदेश में विश्वविद्यालयों में कुलपति पद का नाम कुलगुरु करने वाले इस फैसले को मंजूरी मिल सकती है।
  • शराब की कीमतों में बढ़ोतरी करने का आबकारी विभाग का प्रस्ताव भी कैबिनेट में चर्चा के लिए आ सकता है।
  • अनुपूरक बजट और अंतरिम बजट (लेखानुदान) पर भी कैबिनेट में चर्चा संभव।
  • निजी विश्वविद्यालय संशोधन अधिनियम का प्रस्ताव।
  • माल एवं सेवा कर संशोधन अधिनियम का प्रस्ताव।
  • किसानों को जीरो प्रतिशत ब्याज पर लोन देना जारी रखने का प्रस्ताव ।

About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)