वैक्सीनेशन करवाने पर उपहार में दिया पौधा, जिला जज की अनोखी पहल

नीमच, कमलेश सारडा। देह व्यापार के लिए बदनाम गाँव में जिला जज की पहल पर पहली बार कोविड वेक्सीनेशन किया गया। इसी के साथ जिन्होने वैक्सीन लगवाई उन्हें उपहार स्वरूप एक एक पौधा भी दिया गया। इस अवसर पर जिला जज राजवर्धन गुप्ता ने कहा की वैक्सीन सबके लिए जरूरी है और इसे बढ़ावा देने के लिए ही ये पहल की गई है।

सार्थक पहल: युवाओं का संकल्प, बाढ़ पीड़ित 2 गाँवों को देवरा गाँव ने एक साल के लिए लिया गोद

देश भर में वेक्सीन को लेकर बड़े स्तर पर प्रचार प्रसार के साथ जागरूक किया जा रहा है, बावजूद इसके कुछ इलाके अब तक वैक्सीन की उपलब्धता से दूर थे। ऐसा ही नीमच जिले का सगर ग्राम है, जहां अभी तक वैक्सीन नही पहुँची थी। यहां लोगों को वेक्सीन लगवाने के लिए पंचायत तक जाना पड़ता था। इस गाँव मे बांछड़ा समुदाय के लोग रहते हैं, जिनमें अधिकांश महिलाएं व लड़कियां परंपरागत देह व्यापार करती हैं। ये भी बड़ी वजह है कि बांछड़ा समुदाय की युवतियां अपना गांव छोड़कर दूसरे गांव नहीं जाती है, जिस कारण गांव की लड़कियां पंचायत के सेंटर पर अब तक नहीं पहुंची थी। लेकिन जिला जज ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण व प्रोजेक्ट मिशन मुक्ति एनजीओ के साथ मिलकर पहली बार इस गांव में वैक्सीनेशन शिविर का आयोजन किया जिसमें 100 लोगों को कोविड वैक्सीन लगाई गई। इस कार्यक्रम की अनोखी बात यह भी है कि जिसे भी वैक्सीन लगाई गई उसे एक पौधा भी दिया गया जिसे अपने घर पर लगाने का आह्वान किया। वैक्सीनेशन के कार्यक्रम में गांव की युवतियों, महिलाओं तथा अन्य लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

जिला सत्र न्यायाधीश राजवर्धन गुप्ता ने कहा वैक्सीनेशन के बारे में हर व्यक्ति जागरूक हो गया है जागरूकता का लाभ लेकर हम चाहते हैं कि जो भी व्यक्ति टीका लगवाने आया है उसे यदि एक पौधा दे दिया जाए तो वह वृक्षारोपण में भी अपनी भूमिका निभाएगा और उसे याद रहेगा कि वैक्सीन लगवाई थी। जागरूकता से एक टीका लगवाने वाला यदि एक पेड़ भी लगा दे तो हिंदुस्तान में लाखों करोड़ों पेड़ लग जाएंगे।

एडीजे संजय कुमार जैन ने बताया कि विधिक सेवा प्राधिकरण का लक्ष्य की विधिक सहायता के अलावा ये है कि शासन की कल्याणकारी योजनाएं आम आदमी तक पहुंचे, जिसके लिए हम निरंतर प्रयासरत हैं। नीमच जिले की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए यहां बांछड़ा समुदाय कि जो बहुल्यता है और यह पिछड़ा समुदाय है उसमें निरंतर जागरूकता का प्रयास कर रहे हैं। इसी कड़ी में वैक्सीनेशन जागरूकता कार्यक्रम रखा है और सिर्फ जागरूकता कार्यक्रम ही नहीं हमने स्वास्थ्य विभाग के साथ या वैक्सीनेशन का आयोजन भी किया है। लगभग 100 लोगो का वैक्सीनेशन किया गया है साथ ही एक पौधा भी दिया जा रहा है ताकि पर्यावरण के प्रति अपने उत्तरदायित्व का भी निर्वहन कर सकें।