अभिभावकों की अनुमति के बगैर ऑफलाइन परीक्षा ले रहे निजी स्कूल, फीस का भी नहीं है हिसाब

भोपाल (bhopal) में कई ऐसे निजी स्कूल हैं जो अभिभावकों की मंजूरी के बगैर ही ऑफलाइन परीक्षा (offline exams) करवा रहे हैं और विद्यार्थियों का आना अनिवार्य कर दिया है। ऐसे में परेशान अभिभावकों ने इन निजी स्कूलों (private schools) के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है।

school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संक्रमण (corona) के चलते सभी शैक्षणिक संस्थानों (educational institutions) में पढ़ाई और अन्य गतिविधियां ऑनलाइन माध्यम (online medium) से ही चालू हैं। कई जगह संक्रमण कम होने के चलते स्कूल (schools), कॉलेज आदि खोल दिये गए है। बशर्ते अभिभावक (guardians) अपने बच्चों को स्कूल या कॉलेज भेजना चाहते हों। परंतु भोपाल (bhopal) में कई ऐसे निजी स्कूल हैं जो अभिभावकों की मंजूरी के बगैर ही ऑफलाइन परीक्षा (offline exams) करवा रहे हैं और विद्यार्थियों का आना अनिवार्य कर दिया है। ऐसे में परेशान अभिभावकों ने इन निजी स्कूलों (private schools) के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है।

यह भी पढ़ें… MP Budget News: आवेदन को अब लटका नहीं सकेंगे अधिकारी, अपने आप जारी हो जाएगा सर्टिफिकेट

परीक्षाओं का दौर है और निजी स्कूल एक बार फिर मनमानी कर रहे हैं। शहर के कई निजी स्कूल जैसे सागर पब्लिक स्कूल रोहित नगर, कमला नेहरू स्कूल नेहरू नगर, शारदा विद्या मंदिर, सेंट जोसफ को-एड स्कूल के खिलाफ अभिभावकों ने जिला शिक्षा अधिकारी और मप्र बाल अधिकार संरक्षण आयोग से शिकायत की है। अभिभावकों की शिकायत है कि परीक्षा के चलते निजी स्कूलों ने सभी बच्चों का आना अनिवार्य कर दिया है। उनका कहना है कि ऐसा करना उचित नहीं है निजी स्कूलों को ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों ही माध्यम चालू रखने चाहिए।

अभिभावकों को नहीं दे रहे फीस का हिसाब: कोरोना काल के दौरान मंदी का दौर रहा था। ऐसे में अभिभावकों का निजी स्कूलों की पूरी फीस भर पाना सम्भव नहीं था सरकार ने अपील भी की थी देश की स्थिति को देखते हुए निजी स्कूल अभिभावकों से मनमानी फीस न लें लेकिन कई निजी स्कूल पूरी-पूरी फीस निकलवा रहे हैं और अभिभावक जब उनसे फीस का हिसाब मांग रहे हैं तो वो भी नहीं दे रहे हैं।