राजगढ़ में दबंगों का आतंक: न्याय की गुहार को लेकर पैदल कलेक्टर से मिलने निकला पूरा परिवार, 70KM दूर है मंजिल

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Rajgarh News: राजगढ़ जिले के खेड़ीगाँव निवासी देवसिंघ गुजर्र का परिवार चिलचिलाती धूप और गर्मी में सड़कों पर थाली बजाते हुए जीरापुर-खिलचिपुर मुख्य मार्ग पर पैदल चलता नजर आया है। उन्हें यह कदम गाँव के दबंगों के आतंक के कारण उठाना पड़ा। दबंगों के उनकी जमीन पर कब्जा कर लिया है और उन्हें गाँव से बाहर रहने पर विवश किया। देवसिंघ का पूरा परिवार पिछले 4 साल से खेत में एक झोपड़ी बना कर रह है।

ये  है मामला

दरअसल, माचलपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले खेड़ीगाँव में देवसिंघ गुजर्र, केसर सिंह गुजर्र और बने सिंह गुजर्र का परिवार रहता है। इनके पास 21 बीघा शामिलात जमीन है, जिसपर खेती कर अपने परिवार की आवश्यकताओं को पूरा करते हैं। लेकिन 2019 में भगवान सिंह गुज्जर, फूल सिंह गुजर्र और मान सिंह गुजर्र ने 4 बीघा जमीन पर कब्जा कर लिया। तभी से उनके बीच विवाद चल रहा है। थाने में मामला दर्ज कराने के बाद कोर्ट में सुनवाई भी हुई। फैसला देवसिंघ के पक्ष में आया है। जिसके बाद देवसिंघ सिंह के परिवार ने जमीन पर सोयाबीन की फसल बोई थी। लेकिन 19 जुलाई की रात दबंगो ने ट्रैक्टर चलाकर खड़ी फसल को नष्ट कर दिया है।

न्याय से लिए पैदल चलेंगे 70 किलोमीटर

देवसिंघ गुजर्र, केसर सिंह गुजर्र और बने सिंह गुजर्र ने थाने में इस बात की शिकायत भी की। लेकिन इनके द्वारा मामले को गंभीरता से नहीं लिया गया है। स्थानीय स्तर पर कोई सुनवाई न होने पर देवसिंघ के परिवार ने कलेक्टर से न्याय की गुहार लगाने का निर्णय लिया। परिवार में तीन भाइयों के अलावा केसर सिंह का 35 वर्षीय भतीजा, बने सिंह का 4 वर्षीय बालक अभिनंदन और डेढ़ साल का कृष्णपाल शामिल है। पूरा परिवार 70 किलोमीटर पैदल यात्रा कर राजगढ़ जाएंगे और वहाँ पहुँच कलेक्टर से न्याय की मांग करेंगे।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News