नवागत कलेक्टर बोले- ‘विथ यू, विदाउट यू, डेस्पाइट यू’ रतलाम में खत्म करना है कोरोना

रतलाम में नवागत कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने सख्त लहजे में कहा कि जिले में उन्हें किसी भी हाल में कोरोना संक्रमण को खत्म करना है ।

रतलाम, सुशील खरे। रतलाम जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति अनियंत्रित होते देख मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने गुना कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम (Collector Kumar Purushottam) को रतलाम में नया कलेक्टर नियुक्त करा है। कुमार पुरुषोत्तम अपनी अच्छी प्रशासनिक कार्यशैली के कारण जाने जाते हैं। जिसकी झलक आज रतलाम कलेक्टोरेट (Ratlam Collectorate) में नवागत कलेक्टर के द्वारा पदभार के पश्चात अधिकारियों की बैठक में सामने आई। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि जिले में कोरोना संक्रमण को रोकना है और मैं रोक लूंगा एक अंग्रेजी कहावत ‘विथ यू, विदाउट यू, डेस्पाइट यू’ का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि आपके साथ, आपके बिना, आपके बावजूद मुझे करना है, मैं करूंगा।

यह भी पढ़ें:-मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने की क्राइसिस मैनेजमेंट समूह के साथ बैठक, दिए आवश्यक दिशा-निर्देश

नवागत कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने कहा कि मैं जो कुछ कह रहा हूं मेरी जिम्मेदारी है, मैंने आपको कहा है वह काम आपको करना है भलाई बुराई सब मेरे जिम्मे रहेगी। कोई पूछे तो आप बोल सकते हो कलेक्टर साहब ने ऐसा कहा है। रतलाम में तीन लाख की पापुलेशन में 400 से 450 पेशेंट रोज निकल कर आ रहे हैं यह चिंता का विषय है और कहीं ना कहीं मुझे लगता है कर्तव्य के निर्माण में कहीं संकोच हो रहा है, कोई फील्ड में नहीं जा रहा। गुना में तो 20-25 ही केस पॉजिटिव है। यहां पर और इसके क्या कारण है मुझे नहीं मालूम दो-तीन दिन काम करूंगा तो यह भी पता लग जाएगा। उन्होंने कहा कि मानता हूं सभी मेहनत करते हैं और कर रहे हैं परंतु हमें यह सोचना है कि कहां पर काम होना चाहिए था और कहां पर नहीं हो रहा है और किस काम से व्यवस्था सुधर सकती है।

कलेक्टर की अधिकारियों को दो टूक
कलेक्टर ने अपने अधिकारियों को स्पष्ट रूप से समझाते हुए कहा कि रतलाम में मेरी कहानी आज से शुरू हो रही है, आप लोग यहां पर लगभग डेढ़ साल से काम कर रहे हैं और मेहनत भी कर रहे हैं पर किसने अच्छा करा किसने खराब काम करा इसमें मेरा कोई इंटरेस्ट नहीं है और अब ऐसी कहानी मेरे सामने नहीं आनी चाहिए। इसके अलावा यह भी बात मेरे सामने नहीं आनी चाहिए, उनके समय ऐसा था उनके समय भी ऐसा था यह भी कहानी अब मैं नहीं सुनूंगा। आप सब जिले के अधिकारी हैं और हमें मिलकर काम करना है। कलेक्टर ने स्पष्ट संदेश दे दिया है कि वह किसी भी प्रकार की लापरवाही अब रतलाम जिले में सहन नहीं करेंगे और उनका यह संदेश अधिकारियों के लिए चुनौती है।
बता दें कि जिले में यह पहली बार हुआ जब किसी कलेक्टर के द्वारा प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक सभा कक्ष में खुले दरवाजों के बीच में ली गई और मीडिया को पूरी बैठक के दौरान कवरेज करने का मौका दिया गया। जिससे सबके सामने पारदर्शिता से संदेश खुलकर सामने आ सके। नवागत कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम मुख्यमंत्री के खास प्रशासनिक अधिकारियों में से एक माने जाते हैं जिसके चलते उनकी नियुक्ति रतलाम में की गई है।