रीवा लोकायुक्त के शिकंजे में फंसा नायब तहसीलदार, रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार, मामला दर्ज

नायब तहसीलदार ने जमीन के एक मामले में स्थगन समाप्त करने को लेकर यह रिश्वत मांगी थी।

rewa bribe News

रीवा, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में दिनों दिन भ्रष्टाचार के मामले बढ़ रहे है, आए दिन लोकायुक्त-EOW द्वारा भ्रष्ट अधिकारियों-कर्मचारियों पर कार्रवाई की जा रही है। इसी कड़ी में अब रीवा लोकायुक्त (Rewa Lokayukta Police) टीम ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए नायब तहसीलदार को 5000 kr रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों का इंतजार होगा खत्म! 2 लाख तक बढ़ेगी सैलरी, एरियर भी मिलेगा, जानें नई अपडेट

मिली जानकारी के अनुसार, रीवा लोकायुक्त टीम ने हनुमना तहसील के पहाड़ी वृत्त के नायब तहसीलदार (Naib Tehsildar) भुवनेश्वर सिंह मरावी को 5 हजार रुपए की रिश्वत (Bribe) लेते हुए गिरफ्तार किया है। नायब तहसीलदार ने जमीन के एक मामले में स्थगन समाप्त करने को लेकर यह रिश्वत मांगी थी, जिसकी शिकायत शिकायतकर्ता अधिवक्ता अश्वनी द्विवेदी पुत्र नरेंद्र कुमार द्विवेदी निवासी नयागांव ने रीवा लोकायुक्त एसपी से की गई थी।इसके बाद टीम ने मामले की जांच की और शिकायतों की पड़ताल के बाद ट्रैप करने की योजना बनाई गई।

यह भी पढ़े.. 29 मार्च को पीएम मोदी मध्य प्रदेश के 5.21 लाख हितग्राहियों को देंगे तोहफा, ऐसा रहेगा कार्यक्रम

योजना के तहत टीम ने आवेदक को शनिवार को तहसील कार्यालय में रिश्वत के 5000 रूपए लेकर भेजा, जैसे ही नायब तहसीलदार ने रिश्वत के पैसे लेने के लिए हाथ बढ़ाए, टीम ने उसे पीछे से धर दबोचा। इसके बाज लोकायुक्त की टीम नायब तहसीलदार को विश्राम गृह लेकर पहुंची है। यहां भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है।