श्री सिद्धचक्र महामंडल विधान का आयोजन, दूर-दूर से भक्तों के आने का सिलसिला जारी

Sanjucta Pandit
Published on -

Sagar News : सागर जिले की सुरखी विधानसभा अंतर्गत सुरखी नगर परिषद अंतर्गत आने वाले ग्राम विदवास में एक मंदिर है। जहां देश के कोने- कोने से श्रद्धालु मनोकामना लेकर पहुंचते हैं। मान्यता है कि इस मंदिर में आने वाले भक्तों की सभी मनोकामना पूरी होती है। यहां 22 मार्च बुधवार से 108 मुनि श्री विश्वाक्ष सागर जी महाराज परम पूज्य अतिशय कारी क्षुल्लक रत्न, श्री 105 विगुण सागर जी महाराज, 105 क्षुल्लक श्री विशमार्दव सागर जी महाराज और बाल ब्रह्मचारिण सुची दीदी के सानिध्य में श्री सिद्धचक्र महामंडल विधान का आयोजन चल रहा है।

सोमवार को लगता है दिव्य दरबार

मान्यता के अनुसार, इस मंदिर को लोग चमत्कारी अतिशय क्षेत्र चंद्रप्रभु दिगंबर क्षेत्र के नाम से जानते हैं। इसकी यह विशेषता है कि यहां टोना, टोटका या तंत्रविद्या से कोई काम नहीं होता न ही किसी को कोई चढ़ावा चढाना होता है। ऐसी मान्यता है कि केवल सच्चे मन से दर्शन मात्र से ही लोगों की परेशानियां दूर हो जाती है। वैसे तो यहां रोजाना लोगों का आना- जाना लगा रहता है लेकिन सोमवार को यहां दिव्य दरबार लगता है, जहां लोगों की शंका समाधान भी होता है।

देश के कोने- कोने से पहुंचते हैं लोग

एक तरफ जहां 1008 अतिशयकारी भगवान चंद्रप्रभु विराजमान हैं, जहां देश के कोने कोने से श्रद्धालु आते हैं तो वहीं परम पूज्य अतिशयकारी क्षुल्लक रत्न श्री105 विगुण सागर जी महाराज कोअतिशयकारी महाराज कहा जाता है। बता दें कि वह जहां- जहां भी विराजमान होते हैं वहां- वहां भी देश के कोने- कोने से लोग समस्या लेकर समाधान के लिए पहुंचते हैं।

सागर से विनोद जैन की रिपोर्ट


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News