SDM ने किया कॉलेज का औचक निरीक्षण, सामने आई चौंकाने वाली तस्वीरें

कॉलेज में शिक्षक निर्धारित समय पर नही पहुँचते हैं। साथ ही कॉलेज (college) की प्रयोगशाला में पहुँचे तो स्थिति चौकाने वाली दिखाई दी । क्योकि यहां लाखों रुपये के उपकरण व सामग्री पर धूल व कचड़ा चढ़ा था।

मुंगावली, स्वदेश शर्मा। शनिवार को एसडीएम राहुल गुप्ता ने शासकीय गणेश शंकर महाविद्यालय (College) का तहसीलदार दिनेश सावले के साथ औचक निरीक्षण किया। जिसमें तमाम प्रकार की लापरवाही सामने आईं । अधिकारी जब बारह बजे के आसपास यहां पहुँचे तो यहां बमुश्किल चार से पांच शिक्षक ही पहुंचे थे। लेकिन इनके कॉलेज पहुंचने की सूचना जैसे ही शिक्षकों को लगी तो आनन फानन में यहां पहुंचते दिखाई दिए। जिसके बाद इनको एसडीएम द्वारा जमकर फटकार लगाई गई और कहा गया कि आखिर कैसे आप लोग अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हो, जब अपनी मनमर्जी से ही आप लोग कॉलेज आ रहे हो ऐसे में विद्यार्थियों को क्या शिक्षा दोगे। जिसके बाद कई शिक्षक अपने अपने स्तर से बहाने बनाते नजर आए। लेकिन, एसडीएम ने सभी को जमकर लताड़ा और अनुपस्थित शिक्षकों की जानकारी साथ लेकर आ गए।

SDM ने किया कॉलेज का औचक निरीक्षण, सामने आई चौंकाने वाली तस्वीरें

प्रयोगशाला में धूल खा रहे लाखों के उपकरण व सामग्री
निरीक्षण के दौरान एसडीएम जब यहां बनी प्रयोगशाला में पहुँचे तो स्थिति चौकाने वाली दिखाई दी । क्योकि यहां लाखों रुपये के उपकरण व सामग्री पर धूल व कचड़ा इस तरह चढ़ा था जैसे कि वह वर्षों से खुली ही न हो। जिसको देखकर एडसीएम राहुल गुप्ता ने प्राचार्य रामवीर सिंह रघुवंशी को समझाते हुए कहा कि ये क्या स्थिति बना रखी है और इसमें चिड़ियों ने घोसले तक रख लिए हैं । इनके द्वारा प्राचार्य को हिदायत देते हुए कहा गया कि एक सप्ताह के बाद दोबारा निरीक्षण करेंगे, इस तरह की तस्वीर नजर नहीं आना चाहिए जिसके वाद प्रिंसिपल ने आगे सभी व्यवस्था सही करने का आश्वासन दिया।

ये भी पढे़- Chhatarpur : कलेक्टर के पुत्र वेदांत सिंह ने गेट 2021 परीक्षा में पाया 51वां स्थान

अपनी मर्जी के मालिक नजर आए शिक्षक
इस भृमण के दौरान जो बात सामने आई वह यह कि यहां पदस्थ प्रोफेसर व अतिति विद्वान अपनी मर्जी के मालिक है और अपनी मर्जी से ही कॉलेज में इनका आना जाना होता है। इनके लिए विभाग द्वारा निर्धारित समय सारणी कोई मायने नहीं रखती, क्योंकि एसडीएम द्वारा बताया गया कि लंबे समय से शिकायत मिल रही थी कि यहां शिक्षक निर्धारित समय पर नहीं आते। जिसके बाद ही निरीक्षण किया गया तो यह बात सामने आई कि वास्तविकता में ही यहां शिक्षक निर्धारित समय पर कॉलेज नहीं पहुंचते हैं। अब देखना होगा कि इस तरह अचानक एसडीएम द्वारा किए गए निरीक्षण के बाद इस महाविद्यालय की स्थिति सुधरती है या फिर इसी तरह शिक्षकों की मनमर्जी चलती रहेगी।

लाखों का सिस्टम देखरेख के अभाव में फैल
इस महाविद्यालय में जिस तरह लापरवाही का मंजर है इसका अंदाजा उस समय लगा जब एसडीएम ने यहां लगे सीसीटीवी कैमरों की डिस्प्ले चेक कराने के लिए प्राचार्य से कहा जिसके बाद यहां कॉलेज के कंप्यूटर ऑपरेटरों के द्वारा लाख कोशिश करने के बाद भी सीसीटीवी कैमरों की डिस्प्ले चालू नहीं किया जा सका। जिसके बाद एसडीएम प्राचार्य को समझाते हुए गुस्से में कॉलेज से निकल गए। इस नजारे को देखने के बाद कहा जा सकता है कि शासन स्तर से कॉलेज मैं लाखों रुपये के संशाधन उपलब्ध कराए गए हैं। लेकिन, यहाँ सब लापरवाही कि भेंट चढ़ रहा है।

इनका कहना है
लंबे समय से शिकायत प्राप्त हो रही थी कि कॉलेज में शिक्षक निर्धारित समय पर नही पहुँचते हैं जिसके बाद आज औचक निरीक्षण किया गया जिसमें मेरे 12:00 बजे पहुंचने पर चार से पांच शिक्षक ही कॉलेज में उपस्थित मिले जिसके बाद में अन्य शिक्षा के यहां पहुंचे जिन को समझाइश दी गई है साथ ही अनुपस्थित शिक्षकों पर कार्रवाई के लिए भी वोला है । वहीं प्रयोगशाला में गन्दगी बहुत थी जिसको व्यवस्थित करने के लिए भी कहा गया है।
राहुल गुप्ता-एसडीएम मुंगावली